नसबंदी के ऑपरेशन थियटर में पता चला कि पांच माह प्रेग्नेंट है महिला, फिर हुआ कुछ ऐसा...

नसबंदी के ऑपरेशन थियटर में पता चला कि पांच माह प्रेग्नेंट है महिला, फिर हुआ कुछ ऐसा...

समस्तीपुर। अपने आंकड़े बेहतर करने के लिए कई बार स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोग ऐसे काम करने से भी पीछे नहीं होते हैं, जिसके कारण किसी की जान पर बन आती है। समस्तीपुर के विभूतिपुर प्रखंड के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में ऐसी ही एक लापरवाही का मामला सामने आया है। यहां एक महिला को नसबंदी के लिए लाया गया था. डॉक्टर्स ने उसके ऑपरेशन के लिए ओटी के बेड पर लिटाकर एनेस्थेसिया भी लगा दी थी, लेकिन तभी महिला के पेट में कुछ उभार नजर आया। जिसके ट्यूमर या पेट में बच्चा होने की आशंका के कारण बिना ऑपरेशन ही उसे बेहोशी की हालत में ओटी के बाहर लिटा दिया गया। परिजनों ने इसे अस्पताल की लापरवाही बताया है।

 जानकारी के अनुसार, प्रखंड क्षेत्र के सुरौली वार्ड 3 निवासी बबीता देवी पति जय प्रकाश शर्मा को कार्यरत आशा बबीता कुमारी के द्वारा परिवार नियोजन ऑपरेशन के लिए विभूतिपुर पीएससी लाया गया। जहां ऑपरेशन की पूरी प्रक्रिया के बाद महिला को बेहोशी का सुई देकर बेहोश कर दिया गया उसके बाद ऑपरेशन बेड पर चिकित्सकों ने महिला के पेट में ट्यूमर या बच्चा होने की आशंका पर महिला को आनन-फानन में ऑपरेशन रूम से बाहर निकाल कर नीचे फर्श पर सुला दिया गया जहां उसका देखरेख उसकी मां कर रही थी। साथ ही खामोशी अवस्था में आशा भी बैठी थी। 

इस संबंध में पूछे जाने पर महिला के मां व मौजूद आशा बबीता कुमारी ने बताई की यह 5 महीने की गर्भवती है जिसे चिकित्सक ने बेड पर से बाहर कर दिए हैं जिसे बेहोशी का सुई भी पड़ गया है। जब इसकी जानकारी पत्रकारों के द्वारा ली जा रही थी तो विभूतिपुर पीएचसी में हड़कंप मच गया. वहीं मौजूद प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉक्टर फुलेश्वर प्रसाद सिंह ने हेल्थ मैनेजर संजय कुमार से जानकारी लेने की बात कह कर अपना पल्ला झाड़ लिए और पत्रकारों को इस संबंध में जानकारी देना मुनासिब नहीं समझे. और अस्पताल से गायब हो गए. इतना ही नहीं ऑपरेशनकर्ता डॉक्टर भी गायब हो गए. 

अब प्रश्न यह उठता है कि बिना जांच कराए या बिना रिपोर्ट देखें महिला को ऑपरेशन रूम में कैसे ले जाया गया और बेहोशी का सुई कैसे दिया गया, यदि महिला गर्भवती है तो उसके साथ होनी अनहोनी हो जाए तो इसका जिम्मेदार आखिर कौन ? इस संबंध में समस्तीपुर सिविल सर्जन डॉक्टर सत्येंद्र कुमार गुप्ता ने बताया कि इसकी जानकारी ली जा रही है विधि संवत दोषी व्यक्तियों पर कार्रवाई की जाएगी।


Find Us on Facebook

Trending News