एक डॉक्टर को PHC प्रभारी बनाने पर भड़के अन्य डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी, अस्पताल में कामकाज किया ठप

एक डॉक्टर को PHC प्रभारी बनाने पर भड़के अन्य डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी, अस्पताल में कामकाज किया ठप

SHEOHAR :  जिले के तरियानी PHC में एक चिकित्सक को प्रभारी बनाने संबंधित CS के पत्र जारी करने के बाद दूसरे चिकित्सक ने PHC में कर्मियों के साथ अस्पताल में काम करना बंद कर दिया है। मरीज आज दिन भर बगैर इलाज के वापस लौटने को विवश होकर रह गए। जब लोगों ने इसकी सूचना प्रमुख व प्रमुख प्रतिनिधि राहुल कुमार को दिया तो वे अस्पताल पहुचे और देखा की काम ठप था। जिसके बाद उन्होंने सम्बंधित डॉ  कमलेश कुमार कमल से इस संबंध में जानकारी ली। लेकिन डॉ कमलेश कुमार कमल ने मारपीट का आरोप लगाते हुए जिला पदाधिकारी मुकुल कुमार गुप्ता एवं पुलिस अधीक्षक को आवेदन देकर जान बचाने की गुहार लगाई है। आवेदन में दर्शाया है कि की प्रमुख पति के आदमी द्वारा इमरजेंसी का केस  बताया। जिसे हमने कहा कि ओपीडी में आप दिखावा लीजिए। इसी को लेकर मारपीट करने लगे। यह सब करनामा डॉक्टर रमन कुमार सिंह चिकित्सा प्रभारी बनने के लिए अपना रहे हैं। पीड़ित डॉक्टर ने कहा कि उनके साथ वहां काम करना संभव नहीं है। उनसे हमारी जान पर खतरा भी है। वही स्थानीय लोगों का कहना है कि डॉ रमन कुमार को प्रभारी बनाने के बाद डॉ कमलेश कुमार कमल खुद प्रभारी बनने के दौड़ में थे।

वही प्रमुख प्रतिनिधि राहुल कुमार ने चिकित्सक के द्वारा लगाये गए आरोपों को बेबुनियाद बताया है। कहा है कि लोगो के शिकायत के बाद वह अस्पताल पहुंचे तो वहाँ इलाज नहीं हो रहा था। वहाँ मौजूद मरीजों ने भी शिकायत की है। इस बाबत संबंधित चिकित्सक से पूछे जाने पर उन्होंने मेरे साथ भी बदतमीजी की। लोगों का कहना है कि यह सब कुछ PHC प्रभारी बनने के लिए किया जा रहा है।

जबकि CS शलेंद्र झा ने बताया गया डॉ रमन कुमार को PHC प्रभारी बनाया गया है। कुछ चिकित्सक व कर्मी इसका विरोध कर रहे हैं। सभी को निर्देश दिया गया है कि अपने काम पर ध्यान दे। अन्यथा सख्त कार्रवाई की जाएगी। ऐसे में सवाल उठता है कि PHC प्रभारी बनने के लिए जब चिकित्सक ही आपस मे लड़ेंगे तो मरीजों का क्या खाक इलाज होगा।

शिवहर से मनोज कुमार की रिपोर्ट


Find Us on Facebook

Trending News