गांव में डायरिया का प्रकोप, बासी मछली खाकर दो बच्चियों की मौत, कई बच्चे गंभीर

गांव में डायरिया का प्रकोप, बासी मछली खाकर दो बच्चियों की मौत, कई बच्चे गंभीर

MUNGER : जिले के टेटियाबंबर प्रखंड के बड़ी छाता गांव में डायरिया के कारण कई बच्चे बीमार हो गए हैं। हालत यह है कि शनिवार को डायरिया से पीड़ित दो बच्चियों की मौत हो गई। जिनकी पहचान ममता कुमारी (15 वर्ष) पिता ब्रह्मदेव मांझी एवं फूलझड़ी कुमारी (12 वर्ष) पिता हीरालाल मांझी शामिल हैं। वहीं बच्चियों की मौत के बाद हरकत में आए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने दूसरे बीमार बच्चों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रमें इलाज के लिए भेजा है। 

ग्रामीणों ने बताया कि शनिवार को दिन का खाना खाने के बाद कई बच्चों को पेट दर्द के साथ उल्टी एवं दस्त होने लगे। देर शाम दो बच्चियों की तबीयत इतनी बिगड़ गई कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाने से पहले घर में ही उनकी मौत हो गई। इस बीच आधा दर्जन डायरिया पीड़ित बच्चों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया।

गांव पहुंची हेल्थ विभाग की टीम

दो बच्चों की मौत एवं आधा दर्जन बच्चों के अक्रांत होने की खबर मिलने से स्वास्थ्य महकमा हरकत में आ गया। सिविल सर्जन के निर्देश पर प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. अपूर्वा डॉक्टरों एवं स्वास्थ्य कर्मियों के साथ गांव पहुंचे और गांव में ब्लीचिंग का छिड़काव किया गया।

बासी मछली खाने से बच्चे हुए बीमार

गांव के लोग बासी मछली एवं अन्य भोजन करने से डायरिया होने की आशंका जता रहे हैं। सिविल सर्जन डॉ. हरेंद्र कुमार ने बताया कि दो बच्चियों की मौत की जानकारी मिली है। फूड प्वॉइजन का मामला लग रहा है। प्रभावित गांव में ब्लीचिंग के छिड़काव के साथ जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।


Find Us on Facebook

Trending News