भागलपुर में बारिश के कारण धान की फसल बर्बाद, किसानों के चेहरे पर छायी मायूसी

भागलपुर में बारिश के कारण धान की फसल बर्बाद, किसानों के चेहरे पर छायी मायूसी

BHAGALPUR : तीन दिनों से हो रही क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश के कारण सनहला प्रखंड में 9850 हेक्टेयर में लगी धान की फसल बर्बाद हो गयी है। जिससे यहां के किसानों के चेहरे पर मायूसी छायी हुई है। क्षेत्र के फरीदमपुर गांव के समाजसेवी डॉ गणेश दत्त सिंह ने कहा कि क्षेत्र के किसानों ने काफी मेहनत मजदूरी कर साहूकार से पैसा ब्याज पर पैसा लेकर धान की फसल की बुआई की थी। लेकिन 3 दिनों से हो रही लगातार बारिश के कारण खेत में लगी धान की पकी फसल खेत में गिर कर बर्बाद हो गयी। 

फरीदमपुर पैक्स अध्यक्ष चंदन कुमार ने कहा कि इस वर्ष धान फसल की उपज अच्छी होने की काफी उम्मीद थी। लेकिन बेमौसम बारिश के कारण खेत में खड़ी धान की फसल बारिश के कारण खेत में गिर गया। जिससे धान की उपज जितनी होनी चाहिए। उतना नहीं होगा। सनहौला प्रखंड क्षेत्र में धान की खेती आसमानी वर्षा पर निर्भर होती है। इस बार समय पर बारिश होने के कारण खेत में धान की फसल अच्छी लगी थी। लेकिन बारिश के कारण सब बर्बाद हो गया। बता दें कि सनहौला प्रखंड क्षेत्र में सालभर में एक मात्र धान की फसल होती है। क्योंकि सनहौला प्रखंड में सिचाई की सुविधा नहीं है। 


तालाब, नदी और नहर में अगर बारिश का पानी ठहरा तो कहीं कहीं गेहूं की बुआई के साथ साथ अन्य रवी फसल मटर, चना, सरसों की उपज हो जाती है। प्रखंड के सभी किसानों के धान की फसल का दस से पन्द्रह दिनों में कटाई प्रारंभ होने वाला था। लेकिन बारिश के कारण सब बर्बाद हो गया। इसलिए बिहार सरकार हमलोगों को धान की क्षति पूर्ति का मुआवजा दें ताकि हमलोगों कुछ राहत मिल सके। सनहौला प्रखंड कृषि पदाधिकारी विनय शंकर ने कहा कि सरकारी दिशानिर्देश मिलने के बाद किसानों के खेतों पर जाकर फसल की फोटोग्राफी कर उचित मुआवजा देने की हरसंभव प्रयास करेंगें।

भागलपुर से अंजनी कुमार कश्यप की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News