पल्लवीराज-अग्रणी होम्स निकला फ्रॉड! ग्राहक अपना पैसा वापस ले लें....RERA ने प्रोजेक्ट रद्द कर सूद सहित पैसा लौटाने का दिया आदेश

पल्लवीराज-अग्रणी होम्स निकला फ्रॉड! ग्राहक अपना पैसा वापस ले लें....RERA ने प्रोजेक्ट रद्द कर सूद सहित पैसा लौटाने का दिया आदेश

PATNA: पटना का पल्लवी राज कंस्ट्रक्शन कंपनी और अग्रणी होम्स ने सैकड़ों लोगों को झांसा देकर करोड़ो रू ठग लिया. बिल्डर ग्राहकों के खून-पसीने की कमाई का पैसा ठगकर शानो-शौकत की जिंदगी जी रहा. हालांकि दोनों कंपनी का फर्जीवाडा बहुत दिनों से छुप नहीं सका। रेरा ने बिल्डर की पूरी पोल खोल दी है । रेरा ने पल्लवी राज कंस्ट्रक्शन कंपनी और अग्रणी होम्स  बिल्डर के प्रोजेक्ट के निबंधन का आवेदन खारिज कर दिया है । इसके साथ ही बिल्डर पर सख्त कार्रवाई करते हुए प्रोजेक्ट में ली गई राशि को सूद सहित वापस करने का आदेश दिया है। रेरा ने 26 अगस्त को पल्लवी राज कंस्ट्रक्शन कंपनी के डायरेक्टर संजीव कुमार श्रीवास्तव को आदेश की जानकारी दी है और 60 दिनों में सूद सहित पैसा वापस करने को कहा है। वहीं अग्रणी होम्स के डायरेक्टर आलोक कुमार को भी रेरा ने आदेश की जानकारी देते हुए ग्राहकों का पैसा वापस करने को कहा है। 

अग्रणी होम्स के 8 प्रोजेक्ट के आवेदन रद्द

रेरा ने अग्रणी होम्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के 8 प्रोजेक्ट के निबंधन के आवेदन को खारिज कर दिया है. डैफोडिल सिटी,  गैलेक्सी c&d, आईओबी M टू Q, आईओबी R टू U,हाईवे सिटी, पीजी 1,2 और शिवध्यान प्रोजेक्ट के निबंधन के आवेदन को खारिज कर दिया है .इसके साथ ही 8 प्रोजेक्ट में ली गई राशि को सूद सहित ग्राहकों को वापस करने का भी आदेश दिया गया है. रेरा ने कंपनी के डायरेक्टर को आदेश की जानकारी दी है .साथ ही 60 दिनों में सूद सहित पैसा वापस करने को कहा है. रेरा ने इस मामले की अंतिम सुनवाई 25 अगस्त को किया और 27 अगस्त को अग्रणी होम्स के डायरेक्टर को इसकी जानकारी दी. इसके पहले 17 जून को सुनवाई हुई थी और बिल्डर को समय देते हुए सभी कागजात जमा करने का नोटिस दिया था. फिर 9 अगस्त को सुनवाई हुई पर प्रमोटर स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए हाजिर नहीं हुए .12 अगस्त को भी हाजिर होने को कहा गया था लेकिन वह सुनवाई में नहीं आए. इसके बाद 25 अगस्त ने को रेरा ने आदेश पारित कर दिया.

बुरे फंसे ग्राहक

रेरा ने पल्लवी राज कंस्ट्रक्शन कंपनी मामले की अंतिम सुनवाई 24 अगस्त किया। लंबी सुनवाई के बाद रेरा ने गोवा सिटी, मुंबई रेसिडेंसी और बॉलीवुड रेसिडेंसी के निबंधन के आवेदन को खारिज कर दिया। रेरा के सचिव ने 26 अगस्त को बिल्डर संजीव कुमार श्रीवास्तव को तीनों प्रोजेक्ट के निबंधन आवेदन को खारिज करने की जानकारी दी है। पत्र में बताया गया है कि बिल्डर ने प्रोजेक्ट का नक्शा एप्रुव नहीं कराया, साथ ही कई अन्य विसंगतियां मिली। जिस आधार पर निबंधन का आवेदन खारिज कर दिया गया। इसके साथ ही रेरा के पत्र में बिल्डर संजीव श्रीवास्तव को आदेश दिया गया है कि गोवा सिटी, मुंबई रेसिडेंसी और बॉलीवुड रेसिडेंसी में फ्लैट को लेकर जिन ग्राहकों से राशि ली गई है उन सभी के पैसे सूद सहित 60 दिनों के भीतर वापस करें। रेरा ने गोवा सिटी, मुंबई रेसिडेंसी और बॉलीवुड रेसिडेंसी को लेकर जारी आदेश की अलग-अलग कॉपी बिल्डर को भेजी गई है।  

ग्राहकों से बैंक खाते में लिये थे 6 करोड़ रू,नकद का तो हिसाब-किताब नहीं

 रेरा ने इसके पहले 8 जुलाई को सुनवाई की थी। जिसमें रियल एस्टेट कंपनी पल्लवी राज कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के ऑडिटर को तलब किया था। यह पहली बार था जब रेरा ने किसी कंपनी के ऑडिटर को तलब किया । रेरा ने 8 जुलाई को सुनवाई में यह पाया कि बिना रजिस्ट्रेशन कराए ही कंपनी ने ग्राहकों से करोड़ों रुपए की वसूली की गई. साथ ही कंपनी के हिसाब किताब में फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल किया.  रेरा के वरिष्ठ सदस्य आरबी सिन्हा ने पल्लवी राज कंस्ट्रक्शन के गोवा सिटी प्रोजेक्ट को लेकर यह आदेश दिया था. रेरा के अनुसार पल्लवी राज कंस्ट्रक्शन का एक भी प्रोजेक्ट रजिस्टर्ड नहीं है. ऐसे में उसे ग्राहकों से ₹1 भी लेने का अधिकार नहीं है . इसके बावजूद कंपनी ने 6 करोड़ 13 लाख 88 हजार 519 रू 07 पैसे ग्राहकों से लिये जो पूरी तरीके से अवैध है . जानकार बताते हैं कि इतनी राशि तो सिर्फ बैंक खाते में लिये गए। बड़ी संख्या में वैसे भी ग्राहक हैं जिन्होंने नकद पैसे दिये। उस राशि का तो हिसाब-किताब ही नहीं है। जानकारी के अनुसार बिल्डर ग्राहकों से पैसे ठगकर अपना आशियाना बना लिया।

Find Us on Facebook

Trending News