मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल पहुंचे पप्पू यादव, आंख गंवानेवाले पीड़ितों से की मुलाकात, कहा - सीबीआई करे मामले की जांच

 मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल पहुंचे पप्पू यादव, आंख गंवानेवाले पीड़ितों से की मुलाकात, कहा - सीबीआई करे मामले की जांच

MUZAFFARPUR : मुजफ्फरपुर के आई हॉस्पीटल में ऑपरेशन के बाद अपनी आंखे गंवानेवाले 26 मरीजों का मामला अब पूरी तरह से गर्मा गया है। जहां मामले को लेकर विधानसभा में स्वास्थ्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की गई, वहीं दूसरी तरफ जाप सुप्रीमो पप्पू यादव आज पीड़ित मरीजों से मिलने के लिए मुजफ्फरपुर पहुंचे। जहां उन्होंने पीड़ितों के परिजनों से मुलाकात कर उनका दुख बांटा, बल्कि आर्थिक सहायता भी प्रदान की। इस दौरान पप्पू यादव घटना को लेकर बेहद गुस्से में नजर आए। उन्होंने इस घटना के लिए बिहार की लचर स्वास्थ्य व्यवस्था को जिम्मेदार ठहराया।

पप्पू यादव ने कहा कि जिस तरह से यह घटना हुई है और पूरे मामले की लिपापोती का प्रयास किया गया, वह साफ बताता है कि जिले में स्वास्थ्य व्यवस्था कैसी हो चुकी है। पप्पू यादव ने कहा कि 22 नवंबर को 65 लोगों का ऑपरेशन होता है। 24 घंटे में 27 लोगों की आंखे हमेशा के लिए चली जाती है और घटना की जानकारी तब होती है, जब एक सप्ताह बाद पीड़ित के परिजन इसकी शिकायत लेकर पहुंचते हैं। इन सात  दिनों में आई अस्पताल की तरफ से इस बात का पूरा प्रयास किया गया कि मामले को दबा दिया जाए। पप्पू यादव ने कहा कि इस पूरे मामले में पैसे का खेल चला है। 


पीड़ितों को मिले दो लाख का मुआवजा

पप्पू यादव ने कहा कि जिस तरह से यह घटना हुई है। इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने सरकार पर जमकर निशाना साधा साथ ही पूरी घटना की सीबीआई जांच की मांग की। वहीं पीड़ित को दो ₹200000 मुआवजे की मांग सरकार से किया है।

बता दें कि मुजफ्फरपुर स्थित आई हॉस्पीटल में एक ट्रस्ट के द्वारा मोतियाबिंद के मरीजों के लिए कैंप का आयोजन किया गया था। जिसमें चेकअप के बाद 22 नवंबर को एक ही दिन में 65 लोगों के ऑपरेशन किए गए थे। बताया गया कि ऑपरेशन के लिए विशेषज्ञ की जगह कांट्रेक्ट पर डॉक्टर को बुलाया गया था। ऑपरेशन के अगले ही दिन 27 लोगों की आंखों की रोशनी चली गई। सोमवार को मामला सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया था।

Find Us on Facebook

Trending News