पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में हो सकता है भारी उलटफेर, बोले निर्दलीय प्रत्याशी आर के शर्मा

पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में हो सकता है भारी उलटफेर, बोले निर्दलीय प्रत्याशी आर के शर्मा

PATNA: पाटलिपुत्र से निर्दलीय प्रत्याशी आर के शर्मा पेशे से बिजनेसमैन हैं. नौबतपुर इलाके के नयापुर गाँव के रहनेवाले हैं. मुंबई में रहकर अपनी कंपनी चलाते हैं, जिससे करोड़ों का कारोबार होता है. 2015 में इन्होंने विक्रम विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था. लेकिन इस चुनाव में इनको पराजय का मुंह देखना पड़ा था. 2019 के लोकसभा चुनाव में वे फिर किस्मत आजमा रहे है. सवर्णों के 25 संगठनों ने इस चुनाव में उनका समर्थन किया है, जिससे इस बार वे अपनी जीत पक्की मान रहे हैं. अपने घोषणा पत्र में उन्होंने क्षेत्र के विकास, शिक्षा और रोजगार को मुद्दा बनाया है. अपनी खुद की कंपनी में उन्होंने सौ से अधिक युवाओं को रोजगार देने का वादा किया है. 

निराला अंदाज 

आर के शर्मा के चुनाव प्रचार का भी निराला अंदाज है. प्रचार के दौरान वे बड़ों से हाथ जोड़कर आशीर्वाद लेते हैं. युवाओं से कुशलक्षेम पूछते हैं. किसी के घर जाकर पीने का पानी मांगते हैं तो किसी से गुड़ देने की फरमाइश करते हैं. बड़े कारोबारी हैं. इसलिए जगह जगह लोग अपने बच्चों का बायोडाटा हाथ में लेकर उनका स्वागत करते हैं. 

प्रधानमंत्री पर आरोप 

आर के शर्मा किसी नेता को आम आदमी का हितैषी नहीं मानते हैं. शुक्रवार को अपने आवास पर आयोजित संवाददाता सम्मलेन में उन्होंने कहा की आज जो भी नेता जाति और धर्म की बात कर रहे हैं. वे किसी के नहीं है. वे सिर्फ अपने स्वार्थ के लिए ऐसी बातें कर रहे हैं. प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा की पीएम ने बिहार के लिए जो भी वादा किया है, उसे आजतक पूरा नहीं किया है. वे सिर्फ जुमलेबाजी कर रहे हैं. 

जीत का दावा 

आर के शर्मा ने कहा की बड़ी पार्टियों के नेताओं को अपने काम पर भरोसा नहीं है. वे चुनाव में स्टार प्रचारकों को उतार रहे हैं. इसके माध्यम से वे आम जनता को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन स्टार प्रचारकों के बावजूद जनता उनके पक्ष में खड़ी है. वे जिधर भी जाते हैं. जनता उनके साथ होती है. 

महागठबंधन पर निशाना

चुनाव के बहाने आर के शर्मा ने महागठबंधन पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि आरजेडी परिवारवाद की परिचायक पार्टी है. उन्होंने कहा की मनेर के भाई विरेन्द्र काम करनेवाले नेता हैं. इसके बावजूद उनका टिकट काट दिया गया. उनके बदले परिवार के एक सदस्य को टिकट दे दिया गया. उन्होंने कहा की जनता यह सब देख रही है. इस बार पाटलिपुत्र में भारी फेर बदल की सम्भावना है.      

Find Us on Facebook

Trending News