अस्पताल में गंदे पानी के बीच से होकर गुजरते हैं मरीज व उनके परिजन, सरकारी अस्पताल के प्रबंधन ने बना दिया है तालाब

अस्पताल में गंदे पानी के बीच से होकर गुजरते हैं मरीज व उनके परिजन, सरकारी अस्पताल के प्रबंधन ने बना दिया है तालाब

AURANGABAD : एक तरफ महामारी के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य केंद्रों की व्यवस्था को दुरुस्त किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ कुछ स्वास्थ्य केंद्र ऐसे भी हैं जहां की स्थिति में कोई सुधार नजर नहीं आ रहा है। ऐसा ही एक अस्पताल है औरंगाबाद के गोह प्रखंड स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र। कहने को तो यह इलाके का मुख्य अस्पताल है, जिसके कारण यहां बड़ी संख्या में मरीज पहुंचते हैं। लेकिन इन मरीजों के यहां पहुंचने के लिए मुश्किलें भी सामने आती है। अस्पताल में प्रवेश करते ही यहां नाले के पानी का जमाव रास्ते पर नजर आ जाता है। जिससे होकर गुजरना लोगों की मजबूरी है। अब स्थिति है कि यहां के लोगों का कहना है कि मरीजों का बीमारी का इलाज करनेवाला अस्पताल खुद बीमार हो चुका है।

पानी के निकासी के लिए दिया अल्टीमेटम

अस्पताल में होनेवाले जलजमाव के कारण हो रही परेशानी को देखते अब लोगों में नाराजगी भी नजर आने लगी है। यहां राजद नेता सह क्षेत्र संख्या (6) के जीप प्रतिनिधि श्याम सुंदर ने कहा कि  गोह सरकारी अस्पताल तालाब बना हुआ है। अस्पताल के मुख्य द्वार से लेकर ओपीडी सेंटर तक महीनों से जलजमाव है। इसकी सूध ना तो अस्पताल प्रशासन ले रहा है और ना ही क्षेत्रीय प्रशासन। जलजमाव की वजह से लोगों के स्वास्थ्य की गारंटी देने वाला प्रखंड का इकलौता अस्पताल खुद बीमार है। 

72 घंटे में हो जलनिकासी का इंतजाम

इस बाबत आज मैंने प्रखंड विकास पदाधिकारी को हालात से अवगत करा दिया हूं। 72 घंटे के अंदर जलनिकासी का इंतजाम नहीं हुआ तो अस्पताल प्रशासन के बदइंतजामी के खिलाफ आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी। अधिकारियों का कोई बहाना काम नहीं करेगा। अस्पताल का काम बेहतर इलाज करना है। लेकिन जब अस्पताल खुद ही बीमार हो जाए तो इलाज कहां और कैसे होगा।


Find Us on Facebook

Trending News