पटना महिला थाने में युवक की पिटाई मामले में नया मोड़, सस्पेंड किये गए ASI ने DSP और थानाध्यक्ष पर लगाये गंभीर आरोप

पटना महिला थाने में युवक की पिटाई मामले में नया मोड़, सस्पेंड किये गए ASI ने DSP और थानाध्यक्ष पर लगाये गंभीर आरोप

PATNA : पटना के महिला थाने में बीते अप्रैल महीने की 6 तारीख को युवक के साथ बेरहमी से पीटे जाने के मामले में एक नया मोड़ सामने आया है. युवक को पटना के राजाबाजार से हिरासत में लेकर आने वाले ASI पारस दास ने SC-ST आयोग से लिखित शिकायत की है. पारस दास ने पत्र लिख कर कहा है कि महिला थाना प्रभारी के मौखिक आदेश के बाद उन्होंने राजवीर नामक युवक को राजाबाजार इलाके से हिरासत में लिया था. जिसके बाद वो चुनाव ड्यूटी में औरंगाबाद रवाना हो गए. राजवीर को उनकी गैर मौजूदगी में थाने के अन्दर बेरहमी से पीटा गया. जब मामले ने तूल पकड़ा तो उनके साजिशन इस मामले में फंसा दिया गया जिसके चलते उन्हें निलंबित कर दिया गया. 

ASI पारस दास ने मामले की जांच कर चुके सचिवालय डीएसपी के ऊपर भी गंभीर आरोप लगाते हुए News4Nation से कहा कि उन्हें SC-ST होने की वजह से प्रताड़ित किया गया. पूरी जांच एकतरफा की गई जबकि पूरी घटना में उनकी कोई भूमिका नहीं थी. पारस ने महिला थाना प्रभारी के ऊपर भी गंभीर आरोप लगाए है. उन्होंने कहा कि उन्होंने पूरे मामले में मुझें फंसाने की पूरी कोशिश की. डीएसपी सचिवालय ने अपने ऊपर लगे आरोपों पर कहा कि एसएसपी इस मामले में जांच करेंगी.


क्या था पूरा मामला 

मामला अप्रैल महीने के पहले हफ्ते का है जब बिना कारण बताए ही युवक को उसके घर से उठाया और फिर थाने में ले जाकर बेरहमी से पीटा. जब युवक बेहोश हो गया तो उसे पीएमसीएच में भर्ती करा उसे परिजनों को सौंप दिया.  मामला राजधानी के गर्दनीबाग महिला थाना का था. घटना के शिकार राजवीर नामक युवक ने बताया था कि वह राजाबजार का निवासी है. अचानक उसे घर 9 बजे रात में पुलिस पहुंची और उससे कहा कि उसे महिला थाने बुलाया गया है. जब उसने और उसके घर वालों ने कारण जानना चाहा तो पुलिस वाले उनके साथ मारपीट करने लगे. 


Find Us on Facebook

Trending News