पटना में कोरोनिल के नाम पर ऑनलाइन ठगी, पैसे देने के बाद भी नहीं मिली दवा

पटना में कोरोनिल के नाम पर ऑनलाइन ठगी, पैसे देने के बाद भी नहीं मिली दवा

PATNA : कोरोना संक्रमण काल में साइबर ठग अब कोरोना के दवाओं के नाम पर ठगी शुरू कर दी है. इसका शिकार कंकड़बाग के मुन्नाचक निवासी करण सिंह हो गये. उन्होंने फोन पर कोरोनिल और गिलोई मंगवाने का ऑर्डर कर दिया. पैसा भी पेमेंट किया लेकिन तीन दिन बाद भी न तो दवाई आयी और न ही फोन आया. जब पीड़ित ने उस नंबर पर फोन कर रहे हैं तो स्वीच आ रहा है. इसकी शिकायत पीड़ित ने पतंजलि को इ-मेल के जरिए की है.

पांच कोरोनिल व चार गिलोई का किया था ऑर्डर

पीड़ित करण सिंह ने बताया कि पहले मैं नाला रोड और जीरो माइल पतंजलि सेंटर पर अपने स्टाफ को गिलोई और कोरोनिल कीट लाने के लिए भेजा, लेकिन वहां पर नहीं मिला. इसके बाद गुगल से नंबर निकालकर तीन-चार सेंटरों में फोन किया. लेकिन किसी भी सेंटर में दवा उपलब्ध नहीं थी. इसके बाद अचानक एक नंबर से कॉल आया. उसने कहां कि आपकों कोरोनिल और गिलोई चाहिए. करण सिंह ने कहा हां. इसके बाद ठग ने एक नंबर दिया और पेमेंट करने को कहा. लेकिन पीड़ित ने पहले अकाउंट नंबर चेक किया. अकाउंट नंबर पतंजलि के नाम से बना था. इसके बाद जब वे कन्फर्म हो गये तो उन्होंने पहले 1310 रुपये भेजा. इसके बाद ठग ने कहा कोरोनिल कम से कम पांच कीट डिलिवरी होती है, जिसके बाद पीड़ित ने 2695 रुपये और पेमेंट कर पांच कोरोनिल कीट और चार गिलोई मंगवा लिया. तीन घंटे की डिलिवरी का कह कर तीन दिन बीत गये. अब नंबर भी स्वीच ऑफ आ रहा है.

दूसरे नंबर से फोन करने पर ठग ने उठाया फोन, फिर काटा

पीड़ित ने जब दूसरे नंबर से ठग के मोबाइल नंबर पर फोन किया तो फोन उठाया, लेकिन आवाज पहचानने के बाद तुरंत फोन कट कर स्वीच ऑफ कर दिया. पीड़ित ने बताया कि उसका मोबाइल नंबर कलकत्ता का है. उन्होंने बताया कि उनके पास ठग द्वारा भेजा गया पतंजलि का सर्टिफिकेट और दवा कन्फर्म कराने के लिए व्हाट्सएप पर भेजी गयी तस्वीर भी है.

पटना से अनिल कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News