पटना पर मंडराने लगा बाढ़ का खतरा, 9 अगस्त से सूबे में भारी बारिश का भी अलर्ट

पटना पर मंडराने लगा बाढ़ का खतरा, 9 अगस्त से सूबे में भारी बारिश का भी अलर्ट

PATNA : बिहार के कई जिलों में बाढ़ के प्रकोप के बीच अब राजधानी पटना में गंगा नदी का जलस्तर खतरे के निशान के नजदीक पहुंच गया है. शुक्रवार को जलस्तर गांधी घाट पर 48.12 मीटर था. यह खतरे के निशान से 48 सेंटीमीटर नीचे था. हालांकि दीघा घाट पर गंगा का जलस्तर 49.33 मीटर था. यह खतरे के निशान से एक मीटर 22 सेंटीमीटर नीचे था. इसके साथ ही कहलगांव में गंगा नदी खतरे के निशान से नौ सेंटीमीटर ऊपर बह रही थी. हाथीदह, मुंगेर और भागलपुर में नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी का रुख है. 

बागमती नदी ढेंग ब्रिज में 25 सेंमी, रुन्नी सैदपुर में खतरे के निशान से 207 सेंमी, बेनीबाद में 94 सेंमी और हायाघाट में 227 सेंमी ऊपर बह रही थी. कमला बलान का जलस्तर जयनगर में 10 सेंटीमीटर और झंझारपुर रेल पुल के पास खतरे के निशान से 19 सेंमी ऊपर था. अधवारा नदी कमतौल में 115 सेंमी और एकमीघाट में खतरे के निशान से 210 सेंमी ऊपर बह रही थी. घाघरा नदी दरौली में खतरे के निशान से 63 सेंमी और गंगपुर सिसवन में 76 सेंटीमीटर ऊपर बह रही थी.

अगस्त के पहले सप्ताह में दूसरी बार बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती सर्कुलेशन की वजह से कम दाब का केंद्र बन रहा है. इसकी वजह से प्रदेश में न केवल पुरवैया तेज होगी बल्कि मध्यम से भारी बारिश के आसार बन रहे हैं. विशेषकर प्रदेश के पूर्वी हिस्से में भारी बारिश के आसार हैं. सामान्य तौर पर बंगाल की खाड़ी में मॉनसूनी दौर में तीन से चार बार कम दाब के केंद्र बनते हैं. आइएमडी से मिली आधिकारिक जानकारी के मुताबिक पूरे प्रदेश में हवा में नमी की मात्रा 80% से ऊपर चल रही है. अगले 48 घंटे में नमी 90% तक पहुंच सकती है. फिलहाल 9 अगस्त से बिहार में अच्छी खासी बारिश होगी.

Find Us on Facebook

Trending News