विवादित बयान को लेकर भाजपा के निशाने पर आए पटना एसएसपी, बचाव में उतरी तेजस्वी और मांझी की पार्टी

विवादित बयान को लेकर भाजपा के निशाने पर आए पटना एसएसपी, बचाव में उतरी तेजस्वी और मांझी की पार्टी

PATNA : पटना में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम से पहले जिस तरह आतंकी ट्रेनिग का खुलासा हुआ और उसके बाद पटना एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो ने प्रेस वार्ता के दौरान पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) की ट्रेनिंग कैंप से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की शाखा की तुलना की, उसके बाद वह बुरी तरह से विवाद में फंस गए हैं। उनके बयान के बाद अब बीजेपी ने मोर्चा खोल दिया और उनसे माफी मांगने से लेकर भारतीय पुलिस सेवा से इस्तीफा देने की मांग कर डाली है। वहीं दूसरी तरफ एसएसपी भी अकेले नहीं हैं। उन्हें राजद और हम का साथ मिल गया है। इस बीच बिहार पुलिस मुख्यालय ने ढिल्लो को इस बयान पर नोटिस जारी करते हुए 48 घंटे में कारण बताने को कहा है।

बीजेपी ने कहा- अज्ञानतापूर्ण बयान, माफी मांगे

बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद, विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल के बाद बीजेपी सांसद और पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने भी ट्वीट करके एसएसपी के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। मोदी ने कहा कि धर्मनिरपेक्ष भारत को इस्लामी देश बनाने की साजिश में लिप्त पीएफआई के संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद इस प्रतिबंधित संगठन से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे देशभक्त संगठन की तुलना करना नितांत निंदनीय और अज्ञानतापूर्ण है। उन्होंने कहा कि पटना के एसएसपी को ऐसा बयान तुरंत वापस लेना चाहिए और इसके लिए माफी मांगनी चाहिए।

क्या कहा था एसएसपी ने

पटना के फुलवारीशरीफ इलाके में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के दफ्तर पर छापे में भारत को 2047 तक इस्लामिक देश बनाने की साजिश के मिले कागजात की बात बताते हुए पटना के वरीय पुलिस अधीक्षक ढिल्लो पीएफआई के ट्रेनिंग कैंप की तुलना राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की शाखाओं से कर गए। उन्होंने कहा कि जिस तरह आरएसएस की शाखाओं में लाठी की ट्रेनिंग दी जाती है उसी तरह पीएफआई की ट्रेनिंग कैंप में शारीरिक प्रशिक्षण के नाम पर ट्रेनिंग दी जा रही थी और युवकों का ब्रेनवाश किया जा रहा था।


Find Us on Facebook

Trending News