बोल कर फंस गये पटना एसएसपी! BJP के तल्ख तेवर के बाद पुलिस मुख्यालय हरकत में, ADG बोले- PFI और RSS में तुलना सही नहीं...SSP से पूछा जायेगा

बोल कर फंस गये पटना एसएसपी! BJP के तल्ख तेवर के बाद पुलिस मुख्यालय हरकत में, ADG बोले- PFI और RSS में तुलना सही नहीं...SSP से पूछा जायेगा

पटनाः फुलवारीशरीफ में पीएफआई संगठन के तीन संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी और पटना एसएसपी द्वारा पीएफआई की तुलना आरएसएस के करने के बाद बिहार के राजनीतिक गलियारे में हंगामा मच गया है। पटना एसएसपी के इस बयान के बाद पुलिस बैकफुट पर है। सत्ताधारी बीजेपी ने पटना के सीनियर पुलिस अधीक्षक को हटाने और मुकदमा दर्ज करने की मांग कर दी है। भाजपा के आक्रामक तेवर के बाद पुलिस मुख्यालय ने सफाई दी है। पुलिस मुख्यालय ने सफाई देते हुए कहा है कि पटना एसएसपी का बयान गैरजरूरी था। साथ ही 48 घंटों में जवाब देने को कहा है।

पटना एसएसपी सवालों के घेरे में 

बिहार के एडीजी हेडक्वार्टर जे.एस. गंगवार ने पटना एसएसपी द्वारा पीएफआई की तुलना राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से किये जाने पर सफाई दी है। उन्होंने कहा है कि एसएसपी का बयान गैरजरूरी था। उस बयान की जांच की जायेगी। एक टीवी चैनल से बातचीत में एडीजी मुख्यालय ने कहा कि पटना एसएसपी से इस संबंध में जवाब मांगा जायेगा। उन्होंने कहा कि पटना एसएसपी अनुसंधान पर ध्यान केंद्रित करें। पीएफआई और आरएसएस में तुलना करना सही नहीं। इस तरह से भाजपा के तल्ख तेवर के बाद पुलिस मुख्यालय हरकत में आया है और एसएसपी से शो-कॉज की बात कही है। 

बता दें, पटना एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो ने गुरूवार को पीसी के दौरान पीएफआई की तुलना राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आरएसएस) से कर दी .उन्होंने कहा कि पकड़े गये लोग सिमी के कार्यकर्ता है। उन्होंने कहा कि जिस तरह आरएसएस की शाखा में स्वयं सेवकों को शारीरिक प्रशिक्षण दिया जाता है, उसी तरह पकड़े गये लोगों को भी मस्जिद में प्रशिक्षण दिया जा रहा था।

26 लोगों पर मामला दर्ज

पटना एसएसपी ने बताया कि पीएफआई बिहार में प्रतिबंधित नहीं है। 6-7 जुलाई को पटना के फुलवारीशरीफ में इसका एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इसमें 12 लोग शामिल हुए थे। इस मामले में अभी तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस मामले की जांच शुरू कर दी है। इसमें कुल 26 लोगों पर एफआईआर दर्ज की गयी है। इसमें अधिकांश बिहार के ही हैं।

भारत को वर्ष 2047 तक इस्लामिक राष्ट्र बनाने का खतरनाक मंसूबा पाले संदिग्ध आतंकी अतहर परवेज और मोहम्मद जलालुद्दीन की गिरफ्तारी से पुलिस ने कई राज खोले हैं। फुलवारीशरीफ के एडिशनल एसपी मनीष कुमार के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 12 जुलाई को पटना दौरे के कुछ घंटों पहले ही संदिग्ध आतंकी अतहर परवेज और मोहम्मद जलालुद्दीन को गिरफ्तार किया गया था।



 

Find Us on Facebook

Trending News