मोतिहारी में लूट कांड का पुलिस ने किया खुलासा, पेट्रोल पम्प मालिक ने कर्जदार से बचने के लिए बनाई लूट की झूठी कहानी

मोतिहारी में लूट कांड का पुलिस ने किया खुलासा, पेट्रोल पम्प मालिक ने कर्जदार से बचने के लिए बनाई लूट की झूठी कहानी

MOTIHARI : अरेराज डीएसपी रंजन कुमार के नेतृत्व में ओपी थाना पुलिस ने 18 अप्रैल को हुए पेट्रोल पम्प लूटकांड का खुलासा किया है। पुलिस ने पेट्रोल पम्प मालिक के घर से ही साढ़े चार लाख रुपया बरामद किया है। डीएसपी के नेतृत्व में ओपी थाना पुलिस वैज्ञानिक तरीके से जांच में इसका खुलासा किया है। पुलिस ने पेट्रोल पम्प के पास से घटनास्थल तक की सीसीटीवी फुटेज के आधार पर घटना का उदभेदन किया है। सूत्रों के अनुसार सोमवार को साक्ष्य के आधार पर पेट्रोल पम्प मालिक से पूछताछ किया गया। पूछताछ में पेट्रोल पम्प मालिक द्वारा लूट की घटना से इंकार करते हुए स्वीकार किया गया कि लूट का झूठा आरोप लगाया गया है। पुलिस की दबिश के बाद रुपया को घर से बरामद किया गया। गौरतलब हो कि 18 अप्रैल को हरसिद्धि थाना के सेवरहा के ध्रुप पेट्रालियम के मालिक ने बैंक में रुपया जमा कराने जाने के दौरान हथियार के बल पर 5.50 लाख की लूट की बात कही थी। घटनास्थल एमएसएसजी स्टेडियम के गेट के पास बताया गया था। घटनास्थल देखने के बाद ओपी थाना अध्यक्ष द्वारा लूट की मामला को प्रथम दृष्टया संदेहास्पद बताया गया था। पुलिस अग्रतर कार्रवाई में जुट गयी है। 

गौरतलब है की 18 अप्रैल को दोपहर करीब 3 बजे अरेराज हाई स्कूल स्टेडियम गेट के पास 02 अपाचे मोटरसाइकिल से कुल 04 नकाबपोश अपराधियों द्वारा ध्रुव पेट्रोलियम सेवराहा के मालिक शैलेंद्र सिंह से लूटने के संबंध में वादी शैलेंद्र सिंह द्वारा अरेराज ओपी में कांड संख्या 161/22 दिनांक  प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। एसपी डॉ• कुमार आशीष द्वारा घटना के अनुसंधान एवं अग्रेतर कार्रवाई हेतु अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी अरेराज रंजन कुमार के नेतृत्व में थानाध्यक्ष, अरेराज एवं तकनीकी सेल के साथ एक विशेष टीम बनाई गई। घटनास्थल के निरीक्षण, तकनीकी एवं वैज्ञानिक विश्लेषण तथा घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी के अवलोकन से यह पता चला कि जहां वादी द्वारा घटनास्थल बताया गया था, वहां वादी पहुंचे ही नहीं थे। जिस रास्ते के बारे में वादी द्वारा जाने की बात बताई गई थी। 

वहां सीसीटीवी लगे हुए थे तथा घटनास्थल भी सीसीटीवी के दायरे में था। वादी से गहन पूछताछ पर उनके द्वारा स्वीकार किया गया कि उनके द्वारा प्रतिवेदित घटना असत्य है तथा व्यक्तिगत कर्ज को चुकाने के लिए उनके द्वारा असत्य घटना को प्रतिवेदित कराया गया था। वादी द्वारा काले रंग के बैग सहित कुल ₹4,50,000 भी प्रस्तुत किया गया तथा उन्होंने ₹1,00,000 खर्च करने की बात बताई। वादी द्वारा प्रस्तुत रुपए को विधिवत जप्त किया गया है। वादी शैलेंद्र कुमार सिंह के ऊपर झूठा कांड दर्ज कराने के संबंध में अग्रेतर विधिसम्मत कार्रवाई में पुलिस जुटी है।

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News