पिंडदानियों को हो सकती है परेशानी, अतिक्रमण की शिकार हो रही है फल्गू नदी

पिंडदानियों को हो सकती है परेशानी, अतिक्रमण की शिकार हो रही है फल्गू नदी

 GAYA : गया में फल्गू नदी को अंतः सलिला कहा जाता है यानी जो नदी सतह के नीचे बहती है. पितृपक्ष के मौके दुनियाभर से लोग अपने पितरों को तर्पण करने आते हैं. लेकिन फल्गू नदी बरसात होने के बावजूद भी पूरी तरह सूख गयी है. 

नदी में जहाँ एक फीट खुदाई करने से पानी आ जाता था. अब 40 फीट खुदाई करने के बाद भी पानी नहीं निकल रहा है. लोगों का कहना है की अंतः सलिला फल्गु नदी में वर्षा का पानी आता है और पानी ऊपर से ही बह जाता है. नदी में पानी का जमाव नहीं रहता है. 

नतोजा यह है की पानी ला लेयर भागना शुरू हो गया है. इस मामले को लेकर समाजसेवी अनिल श्रीवास्तव का कहना है उन्होंने कई बार इसके लिए जिला प्रशासन के समक्ष बात को रखा. एक माह पहले भी सड़क पर लेट कर उन्होंने प्रदर्शन किया था. 

लेकिन प्रशासन की ओर से कोई पहल से नहीं की गई. अनिल श्रीवास्तव ने यह भी कहा कि गया के फल्गू नदी के किनारे लोग मिट्टी भरकर उसका अतिक्रमण कर रहे हैं. इससे नदी दिनोंदिन छोटी और उसकी चौड़ाई पतली होती जा रही है. 

नदी के अतिक्रमण करने वाले माफियाओं के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की आवश्यकता है. साथ इस नदी की दूसरे नदियों से भी जोड़ने की जरुरत है. 

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News