पिता की सांसें फूल रही थीं, लेकिन बेटी के हाथ में बैग थमाने की जिद नहीं गयी आया हार्ट अटैक , अस्पताल के रास्ते में दम तोड़ा

पिता की सांसें फूल रही थीं, लेकिन बेटी के हाथ में बैग थमाने की जिद नहीं गयी आया हार्ट अटैक , अस्पताल के रास्ते में दम तोड़ा

जमुई: खबर बिहार के जमुई से है  रेलवे स्टेशनों पर अक्सर हादसे होते रहते हैं, लेकिन जमुई रेलवे स्टेशन पर आज की घटना का दृश्य जिसने भी देखा, उसका कलेजा फट पड़ा होगा. जनशताब्दी एक्सप्रेस धीरे-धीरे पटरी छोड़ रही थी और एक हार्ट पेशेंट पिता अपनी बेटी का बैग लेकर दौड़ लगा रहा था. पिता की सांसें फूल रही थीं, लेकिन बेटी के हाथ में बैग थमाने की जिद के चलते उनके कदम रुक नहीं रहे थे. इसी दरम्यान ट्रेन ने रफ्तार पकड़ ली और वे झटका खाकर प्लेटफार्म पर गिर पड़े. उन्हें वहीं हार्ट अटैक आ गया.

बदहवास बेटी ट्रेन के गेट पर खड़ी पिता को देख रही थी और पिता बुझती सांसों के साथ उस बिटिया को, जिसे इंजीनियर बनने के लिए वे कोलकाता भेजने आए थे. जानकारी के मुताबिक सुनील मोदीम अपने बेटी मनीषा कुमारी उर्फ झीमी को जमुई रेलवे स्टेशन पहुंचाने आए थे. बेटी को ट्रेन पर चढ़ाते ही वह चलने लगी. इस बीच बेटी का एक बैग स्टेशन पर ही छूट गया, जिससे देने के लिए वे चलती ट्रेन के पीछे-पीछे भागने लगे.

इसी दरम्यान उनका पैर लड़खड़ा गया और वे स्टेशन पर गिर गए. जमुई रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर पिता सुनील मोदी को छटपटाते देख बेटी मनीषा ने ट्रेन रुकवाई. चीखती-चिल्लाती हुई वह ट्रेन से उतरी और दौड़ते हुए पिता के पास आई. पापा..पापा...आंखें खोलिए पापा....मदद करो...बचा लो मेरे पापा को.... बदहवास बेटी वहां मौजूद लोगों से मदद की गुहार लगा रही थी। तभी मौके पर रेलवे पुलिस के जवान दौड़े-दौड़े आए और उनके पिता को उठाकर जमुई सदर अस्पताल ले जाने लगे. लेकिन उन्होंने रास्ते में ही दम तोड़ दिया. अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.


Find Us on Facebook

Trending News