नियोजित शिक्षकों का आन्दोलन जारी, शिक्षक दिवस के मौके पर काली पट्टी बांधकर करेंगे सत्याग्रह

नियोजित शिक्षकों का आन्दोलन जारी, शिक्षक दिवस के मौके पर काली पट्टी बांधकर करेंगे सत्याग्रह

BETIA : राज्य सरकार के खिलाफ नियोजित शिक्षकों का आक्रोश कम होने का नाम नहीं ले रहा है. इसी सिलसिले में आज पश्चिमी चम्पारण में आज शिक्षकों ने जुलूस का आयोजन किया. इस मौके पर बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति की ओर से राज्य सरकार के समक्ष सात सूत्री मांगे रखी गयी. संतोष कुमार यादव के नेतृत्व में आयोजित इस जुलूस में शिक्षकों ने राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. 

इसके बाद शिक्षकों ने पटना में शिक्षकों पर हुए अमानवीय अत्याचार को हिटलरशाही करार देते हुए प्रखंड मुख्यालय पर धरना दिया. वही शिक्षकों के एक शिष्टमंडल ने अपनी सात सूत्री मांगों के समर्थन में लौरिया बीडीओ के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा. मुख्य रूप सात सूत्री मांगों में समान काम के लिए समान वेतन, पेंशन योजना, अनूकंपा के आधार पर नौकरी, भविष्य निधि का लाभ और परिवहन भत्ता आदी शामिल है. 

शिक्षक संघ के नेता संतोष यादव ने कहा की सरकार से बार बार आग्रह करने के बावजूद शिक्षा के विकास के लिए उनकी मांगे नहीं मान रही है. यह काफी निराशाजनक है. वहीँ उन्होंने कहा की उचित मांगों को लेकर अठारह जुलाई को शांतिपूर्ण ढंग से  प्रदर्शन कर रहे निहत्थे शिक्षकों पर लाठीचार्ज और आश्रुगैस का प्रयोग लोकतान्त्रिक मूल्यों के विपरीत है. उन्होंने कहा कि बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति की ओर से शिक्षकों के मांगों के समर्थन में चरणबद्ध आंदोलन किया जायेगा. जिनमें सत्रह  अगस्त को जिला पदाधिकारी के समक्ष धरना और पांच सितम्बर को गांधी मैदान में काली पट्टी बांधकर सत्याग्रह करना शामिल है.

इस मौके पर आदित्य कुमार तिवारी, चंचल, अविनाश, राहुल कुमार मल्ल, जीतेन्द्र यादव, मो0 जहीर, रामजी मल्ल,  आफदाब दानिश, महिला शिक्षक नेत्री जया भारती, मधु लकड़ा, शालिनी, विजय, बसंती तिर्की और बबली कुमारी सहित सैकडो की संख्या में शिक्षक उपस्थित थे. 

बेतिया से आशीष कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News