पीएम मोदी का बड़ा बयान कहा- देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बिहार एनडीए की जीत जरूरी

पीएम मोदी का बड़ा बयान कहा- देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बिहार एनडीए की जीत जरूरी

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के प्रचार के लिए 23 अक्टूबर को सासाराम के डेहरी में प्रधानमंत्री पहुंचे। उनका स्वागत सीएम नीतीश कुमार ने किया। इस दौरान मंच पर मुंख्यमंत्री नीतीश कुमार,  ससाराम के सांसद छेदीपासवान, वीआईपी चीफ मुकेश सहनी, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, केंद्रीय मंत्री आरके सिंह व अन्य  मौजूद रहे। अपने संबोधन में पीएम ने कहा कि मैं बिहार के लोगों को इतनी बड़ी आपदा का डटकर मुकाबला करने के लिए बधाई देना चाहता हूं। कोरोना से बचने के लिए तेजी से जो फैसले लिए गए हैं, जिस तरह बिहार के लोगों ने काम किया, उसके नतीजे आज दिख रहे हैं। 

पीएम मोदी ने कहा कि बिहार के लोग स्वाभिमानी और मेहनती होते हैं और आप सभी को प्रणाम करता हूं। मैं अन्नदाता और मेहनतकश किसान को हम नमन करता हूं। इस दौरान नरेंद्र मोदी ने कई बार भोजपुरी भाषा का इस्तेमाल किया और कहा हम इ मंच से रौआ सब के नमन कर तानी। पीएम मोदी ने मंच से कहा कि हाल ही में बिहार ने अपने दो सपूतों को खोया है। मेरे करीबी मित्र राम विलास पासवान और बाबू रघुवंश प्रसाद सिंह जी को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। 


उन्होंने कहा कि आज रोहतास के साथ-साथ आसपास अन्य जिलों के साथी भी यहां आएं हैं। तकनीक के माध्यम से भी काफी साथी जुड़े हैं। मैंने बिहार में बहुत से लोगों के साथ करीब से काम किया है। बिहारियों में एक अच्छी बात होती है उनकी स्पष्टता। बिहारी कभी भ्रम में नहीं रहते हैं। चुनाव से पहले ही बिहार के लोगों ने अपना स्पष्ट संदेश सुना दिया है। सभी रिपोर्ट के दावे हैं कि बिहार में एनडीए की सरकार बनने जा रही है। 

वहीं पीएम मोदी ने महागठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा कि भ्रम फैलाने के लिए एक-दो चेहरों को बड़ा दिखाने में लगे रहते हैं। इसका मतदान पर असर नहीं है। बिहार के मतदाता समझदार हैं। बिहार के लोगों ने मन बना लिया है कि जिनका इतिहास बिहार को बीमारू बनाने का है उन्हें आसपास नहीं फटकने देेंगे। भारत के सम्मान बा बिहार, भारत का दिल बा बिहार, बिहार के लोग सबसे आगे रहलन। बिहार के सपूत गलवान में शहीद हो गए, लेकिन भारत का माथा नहीं झुकने दिया। ऐसी ही बिहार की धरती पर रहने वाले लोगों का इतिहास। 

बिहार विकास की ओर तेजी से बढ़ल बा

पीएम मोदी ने कहा कि लालटेन के जमाना गेल, पिछले 6 साल में बिजली में खपत 3 गुना बढ़ गया है। वो दिन भी था जब लोगों को दिन में ही घर के अंदर बंद रहना पड़ता है। एक-एक सरकारी नौकरी को लाखों रुपए कमाने का जरिया माना। वो फिर बढ़ते हुए बिहार को ललचाई नजरों से देख रहे हैं। आज पीढ़ी बदल गई है, लेकिन बिहार केा ये याद रखना है कि बिहार को बर्बाद करने वाले कौन थे। 


2014 में केंद्र में सरकार बनने के बाद राज्य के विकास के लिए तेजी से काम किया। कोरोना के समय में भी गरीबों को सर्वाेच्च प्राथमिकता देते हुए एनडीए ने काम किया। 370 का मुद्दा उठाया, लेकिन इस फैसले को पलटने की बात करते हैं। इतना करने के बाद भी बिहार के लोगों से वोट मंागने की हिम्मत दिखा रहे हैं। विपक्षों के लएि देश हित नहीं दलालों का हित ज्यादा जरूरी। 

वहीं, इससे पूर्व बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हमने केंद्र से जारी गाइडलाइन के जरिए काम किया। अब कोरोना का बिहार में रिकवरी रेट 94 प्रतिशत हो गया है। कोरोना के दौरान केंद्र से पूरा सहयोग मिला, विशेष ट्रेनों का परिचालन हुआ, गरीबों को राशन मिला, प्र्रधानमंत्री उज्ज्वाला योजना के अंतर्गत कनेक्शन मिला समेत अन्य केंद्र से फायदा मिला।


Find Us on Facebook

Trending News