पुलिस के कारतूस से पटना में हुई प्रोपर्टी डीलर की हत्या, घटना के नौ दिन बाद हुए खुलासे से सकते में महकमा

पुलिस के कारतूस से पटना में हुई प्रोपर्टी डीलर की हत्या, घटना के नौ दिन बाद हुए खुलासे से सकते में महकमा

Desk: जो कारतूस सिर्फ पुलिस को सप्लाई की जाती है वह अपराधियों के पास कैसे पहुंची. इस सवाल से पुलिस महकमा में बवाल मच गया है. पुलिस को मिलने वाली गोली से पटना में प्रॉपर्टी डीलर की हुई हत्या के नौवें दिन इस खुलासे से पुलिस महकमा सकते में है.

बता दें कि आज से 9 दिन पहले यानी 23 अगस्त को पुलिस मुख्यालय के ठीक नाक के नीचे बेउर थाने के महावीर कॉलोनी मोड़ के पास अपराधियों ने प्रॉपर्टी डीलर के कार्यालय पर ताबड़तोड़ गोलीबारी की थी. जिसमें 4 लोगों को गोली लगी थी. उसमें राजेश यादव नाम का प्रॉपर्टी डीलर मारा गया था. तीन मोटरसाइकिल से पहुंचे छह अपराधियों ने प्रॉपर्टी डीलर के कार्यालय में घुसकर जबरदस्त गोलीबारी की जिसमें राजेश यादव की मौके पर ही मौत हो गई. 9 दिन बीतने के बाद पुलिस की जांच टीम अभी तक यह चिन्हित नहीं कर पाई है कि घटना को अंजाम देने वाले शूटर कौन कौन थे. लेकिन गोलीबारी की घटना के बाद मौके से 9 एमएम के आठ खोखा और एक मिस फायर कारतूस बरामद बरामदगी के जांच के बाद जो सच सामने आया है उसने पुलिस के होश उड़ा दिए हैं.


बताया जा रहा है कि जिस नाइन एमएम बोर के कारतूस से प्रॉपर्टी डीलर की हत्या की गई है उसे आम पब्लिक आर्म्स हाउस से नहीं खरीद सकता है. पुलिस अधिकारियों ने बताया है कि 9 एमएम के कारतूस का इस्तेमाल सिर्फ पुलिस करती है. अब बड़ा सवाल यह है कि आखिर अपराधियों के पास से 9 एमएम का कारतूस आया कहां से. चर्चा यह भी है कि जिस कार्बाइन को लेकर अपराधी पहुंचे थे और जिसका इस्तेमाल किया गया था वह भी पुलिस से लूटी गई है.

बताया जा रहा है कि इस कांड को अंजाम देने में नौबतपुर और बिहटा के शूटरों का हाथ है.  गौरतलब है कि 3 बाइक से आए छह अपराधियों ने प्रॉपर्टी डीलर टुनटुन गोप के ऑफिस में ताबड़तोड़ फायरिंग की थी. संयोग वश टुनटुन मौके पर मौजूद नहीं था. घटना में प्रॉपर्टी डीलर राजेश की जहां मौत हो गई थी वही लालबाबू ,संजीत और धर्मेंद्र घायल हो गए थे. इस घटना के बाद टुनटुन ने चार लोगों पर एफ आई आर दर्ज कराया था.

Find Us on Facebook

Trending News