बिहार में बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं, पॉल्ट्री व्यवसाय में 80 फीसदी की आई गिरावट

 बिहार में बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं, पॉल्ट्री व्यवसाय में 80 फीसदी की आई गिरावट

PATNA : देश अभी कोरोना के कहर से उबर भी नहीं पाया है की कई इलाकों में बर्ड फ्लू का खतरा मंडराने लगा है. हालाँकि बिहार में अभी तक बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं हुई है. इसके बावजूद पोल्ट्री व्यवसाय पर इसका प्रभाव नजर आने लगा है. पॉल्ट्री वैज्ञानिकों की मानें तो डेढ़ माह में सबसे ज्यादा सैम्पल इकट्ठा किए गए हैं. सभी नमूनों के रिजल्ट भी आ गए, लेकिन एक भी पक्षी में बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं हुई.

हालाँकि वैज्ञानिकों ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि कहीं से बर्ड फ्लू की पुष्टि नहीं हुई है. इसीलिए लोग मीट या अंडे का इस्तेमाल उबालकर करें. क्योंकि ऐसा करने के बाद 70 डिग्री तापमान जाता है. जिससे वायरस मर जाता है. वहीं एक्सपर्ट की मानें तो कई जिलों से सूचनाएं लगातार पक्षियों के मरने की और बीमार पड़ने की मिल रही है, लेकिन जांच के बाद एक भी पक्षी में एवीएन इन्फ्लूएंजा नहीं पाया गया है. इन्होंने कहा कि रूटीन सैम्पल भी तेजी से इकट्ठे किये जा रहे हैं. जिसे माइनस 20 डिग्री में प्रिजर्व कर रखा गया है और लगातार जांच चल रही है.

उधर राज्य के कई इलाकों में बर्ड फ्लू की अफवाह के कारण पॉल्ट्री फॉर्म पर साइड इफेक्ट पड़ रहा है. 170 रुपये बिकने वाला चिकन 120 रुपये किलो बिक रहा है. जिससे कारोबार पर असर पड़ रहा है.एक अनुमान के अनुसार मुर्गे की बिक्री में 80 प्रतिशत गिरावट हो गई है.



Find Us on Facebook

Trending News