बिहार का एक अनुमंडल ऐसा जहाँ जाति, आवासीय प्रमाण पत्र के साथ मिल रहा है 107 का नोटिस, पढ़िए पूरी खबर

बिहार का एक अनुमंडल ऐसा जहाँ जाति, आवासीय प्रमाण पत्र के साथ मिल रहा है 107 का नोटिस, पढ़िए पूरी खबर

MOTIHARI : बिहार में एक ऐसा भी अनुमंडल है. जहाँ जाति और आवासीय प्रमाणपत्र के 107 का नोटिस भी मिलता है. मोतिहारी जिला के अरेराज अनुमंडल प्रशासन द्वारा सेना के बहाली में जाने की लिए आवासीय, जाति प्रमाणपत्र के लिए आवेदन किए छात्रों को प्रमाणपत्र के साथ 107 की कार्रवाई का नोटिस भी दिया जा रहा है. नोटिस मिलने से छात्रों के अभिभावकों में आक्रोश है. प्रमाणपत्र के लिए हंगामा करने पर प्रशासन की ओर से सरकारी कार्य मे बाधा डालने का आरोप लगा डेढ़ दर्जन छात्रों पर 107 की कार्रवाई की गई है. 

बताते चलें की सेना बहाली में जाने वाले छात्रों को जाति और आवासीय प्रमाणपत्र के लिए हल्ला करना महंगा पड़ गया. अरेराज अनुमंडल प्रशासन ने जाति और आवासीय के लिए आवेदन किए गए डेढ़ दर्जन छात्रों पर सरकारी कार्य मे बाधा डालने को लेकर 107 की कार्रवाई किया है. छात्रों पर 107 की कार्रवाई से अभिभावकों में आक्रोश है. भादा निवासी अरुण कुमार, पवन कुमार, रमपुरवा चंदन कुमार, अरुण कुमार, विक्की कुमार मधुबनी, सेराज अंसारी हरसिद्धि मतियरिया ने बताया कि सेना में बहाली में जाने के लिए जाति और आवासीय प्रमाणपत्र के लिए अनुमंडल में आवेदन दिया गया था. प्रमाणपत्र मिलने में देरी होने पर बुधवार को कुछ छात्रों द्वारा हल्ला हंगामा किया गया. अनुमंडल प्रशासन ने प्रमाणपत्र के लिए आवेदन दिए सभी छात्रों सरकारी कार्य मे बाधा डालने पर 107 की कार्रवाई कर नोटिस कर दिया गया. अब प्रमाणपत्र के लिए जाने पर प्रमाणपत्र के साथ 107 की नोटिस तामिला कराकर 3 फरवरी को उपस्थित होने का निर्देश दिया जा रहा है. 

 सलहा निवासी संपत कुमार मिश्र ने बताया कि उसके पुत्र सचिन कुमार मिश्र सहित एक दर्जन से अधिक छात्र सेना में बहाली के लिए जाति व आवासीय प्रमाणपत्र बनवाने के लिए अनुमंडल में एक सप्ताह पूर्व आवेदन किया था. 28 जनवरी को सेना बहाली में जाने को लेकर सभी छात्र 24 जनवरी को कार्यालय गए थे. लेकिन कर्मियों द्वारा पदाधिकारी के नहीं रहने को लेकर  27 जनवरी को बुलाया गया था. जाति व आवासीय प्रमाणपत्र के लिए बुधवार को जब 10 बजे छात्र पहुंचे तो कर्मियों द्वारा प्रमाणपत्र पर पदाधिकारी का हस्त्राक्षर नहीं होने की बात बतायी गई. जिसपर छात्र आक्रोशित हो गए. प्रमाणपत्र के लिए हंगामा करने लगे. वही आरटीपीएस कर्मी पर रिश्वत मांगने का आरोप भी लगाया गया. एसडीओ सतीश रंजन ने बताया कि कर्मियों के द्वारा सिग्नेचर के लिए फाइल प्रस्तुत नहीं किया गया था. बुधवार को दस बजे ही छात्र अनुमंडल कार्यालय पहुंचकर प्रमाणपत्र के लिए हंगामा करने लगे. छात्रों के रिश्वत मांगने के आरोप को लेकर आरटीपीएस कर्मी से स्पष्टीकरण की मांग किया गया है. वही छात्रों को दुबारा समय से आवेदन कर प्रमाणपत्र बनवाने व अच्छे आचरण करने के लिए डराने के लिए 107 की नोटिस किया गया है. 

मोतिहारी से हिमांशु की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News