बिहार में दूसरे एक्सप्रेसवे निर्माण को लेकर तैयारी शुरू, 695 किमी लंबा होगा यह आठ लेन का रास्ता

बिहार में दूसरे एक्सप्रेसवे निर्माण को लेकर तैयारी शुरू, 695 किमी लंबा होगा यह आठ लेन का रास्ता

PATNA : यूपी के तर्ज पर बिहार में अब गाड़ियों की रफ्तार को तेज करने की कवायद शुरू हो गई है। कुछ दिन पहले ही बिहार सरकार की तरफ से भारत माला प्रोजेक्ट के तहत पटना-कोलकोत्ता के बीच एक्सप्रेस बनाए जाने की बात कही गई थी। वहीं अब बिहार में दूसरे एक्सप्रेसवे को लेकर भी तैयारी शुरू कर दी गई है। बताया गया कि बिहार में दूसरा एक्सप्रेसवे रक्सौल से हल्दिया के बीच बनाया जाएगा। जल्द ही इस एक्सप्रेसवे को लेकर डीपीआर तैयार करने का काम शुरू कर दिया जाएगा। 

रक्सौल से हल्दिया तक बननेवाला यह यह एक्सप्रेस-वे छह से आठ लेन का होगा। माना जा  रहा है कि बिहार के इस दूसरे एकसप्रेस-वे का निर्माण अगले साल से शुरू होगा. जो करीब 695 किमी लंबा होगा, जिसके निर्माण पर 54 हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे. इसके निर्माण को पूरा करने की समय सीमा वर्ष 2024-25 तक का होगा।

बिहार के नौ राज्यों से गुजरेगा रास्ता

यह एक्सप्रेसवे राज्य के करीब नौ जिलों से होकर गुजरेगी, इनमें पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, मुजफ्फरपुर, सारण, पटना, बिहारशरीफ, शेखपुरा, जमुई और बांका शामिल हैं. इसके बाद यह एक्सप्रेस-वे झारखंड में प्रवेश कर सरैयाहाट, नोनीहाट व दुमका से पश्चिम बंगाल के पानागढ़ से हल्दिया पोर्ट चला जायेगा। बड़ी बात यह होगी कि यह एक्सप्रेस-वे पूरी तरह ग्रीनफील्ड होगा और इसमें बीच में नहीं चढ़ा जा सकेगा।

पटना से होगा कनेक्शन 

वहीं इस एक्सप्रेस-वे का एलाइनमेंट के रक्सौल से दिघवारा आकर प्रस्तावित पटना रिंग रोड में जुड़कर कच्ची दरगाह-बिदुपुर से होकर पटना-कोलकाता एक्सप्रेस-वे में जुड़ेंगे. फिर बांका होते हुए सरैयाहाट, नोनीहाट व दुमका से पश्चिम बंगाल के पानागढ़ से हल्दिया पोर्ट तक होगा।

Find Us on Facebook

Trending News