खेल का रोडमैप करे तैयार और खिलाड़ियों को रोजगार एवं संसाधन मुहैया कराए सरकार : मृत्युन्जय तिवारी

खेल का रोडमैप करे तैयार और खिलाड़ियों को रोजगार एवं संसाधन मुहैया कराए सरकार : मृत्युन्जय तिवारी

PATNA : बिहार की दयनीय एवं लचर खेल व्यवस्था को दुरुस्त करने करने की मांग को लेकर बिहार प्लेयर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष मृत्युंजय तिवारी राज्य के सैकडों खिलाड़ियोंके साथ रविवार  से हीं मोईनूल हक स्टेडियम के बाहर आमरण अनशन पर बैठ गए हैं।

तिवारी ने बताया कि सरकार का ध्यान लगातार आकृष्ट कराने के लिए खिलाड़ी सड़कों पर हैं हम बार-बार सरकार से निवेदन करते रह गए, लेकिन सरकार की नींद नहीं खुली। यह दुर्भाग्य की बात है कि राज्य के खिलाड़ी सड़कों पर हैं और 4 दिनों के बाद राज्य में खेल सम्मान समारोह के आयोजन सरकार के द्वारा खेल दिवस के अवसर पर किया जाता है इसमें राज्य के उत्कृष्ट पदक प्राप्त विजेता खिलाड़ियों को सम्मानित किया जाता है जब खिलाड़ियों को रोजगार और संसाधन ही सरकार मुहैया नहीं करा पा रही है तो यह सम्मान किस काम का है। 

उन्होंने कहा कि आखिर 5 वर्षों से उत्कृष्ट खिलाड़ियों की नियुक्ति प्रक्रिया बंद क्यों है इसका जवाब नहीं मिल पा रहा है।  2014 के विज्ञापन के अनुसार खिलाड़ियों की नियुक्ति प्रक्रिया का निष्पादन आज तक नहीं हो पाया है। राज्य में एकमात्र मोइनुल हक अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है।  फिजिकल कॉलेज पिछले 10 से ज्यादा  वर्षो   से बंद पड़े हैं।  

तिवारी ने कहा कि फिजिकल कॉलेज में माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने घोषणा किया था स्पोर्ट्स हब बनेगा और हॉकी के लिए एस्ट्रोटर्फ लगाए जाएंगे  दस 11 वर्ष बीत गए आज तक इस पर कोई काम नहीं हो रहा है सरकार दावा करती है प्रत्येक प्रखंडों में स्टेडियम का निर्माण कराया जा रहा है एक भी कहीं कोई स्टेडियम मानक स्टेडियम नहीं है उसमें कहीं कोई खेलकूद की गतिविधियां नहीं हो रही है अरबों रुपए उस में खर्च हो गए स्टेडियम घोटाले की निगरानी से जांच कराने की मांग हम करते हैं खेल विधेयक कानून लागू है सरकार इस पर असमंजस  की स्थिति बनाई हुई है पता नहीं चल रहा है खेल विधेयक कानून लागू है या फिर इसे वापस ले लिया गया है इस पर सरकार को स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।  

उन्होंने कहा कि बिहार में खेल विश्वविद्यालय की स्थापना हो इसके लिए सरकार को गंभीरता से ठोस पहल करनी चाहिए। इस बार बिहार प्लेयर्स एसोसिएशन ने आंदोलन का शंखनाद किया है और इसका परिणाम जब तक ठोस नहीं निकलता है तब तक हम आमरण अनशन पर डटे  रहेंगे।  

विवेकानंद की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News