सदर अस्पताल से कैदी फरार मामला : घटना के एक महीने बाद भी पुलिस के खाली हाथ

सदर अस्पताल से कैदी फरार मामला : घटना के एक महीने बाद भी पुलिस के खाली हाथ

NAWADA : सदर अस्पताल में इलाज के दौरान फरार हुए कैदी सोनू राजवंशी का अबतक सुराग नहीं मिल सका है। नगर थाना की पुलिस उसे खोज निकालने में नाकाम है। महज प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस इतिश्री समझ रही है। जबकि उसके फरार हुए करीब एक माह पूरे होने वाले हैं। पुलिस उसे खोजने में दिलचस्पी भी नहीं दिखा रही है। ऐसे में पुलिसिया कार्रवाई सवालों के घेरे में है।

हालांकि जेलर रामविलास दास का कहना है कि फरार हुए कैदी की गिरफ्तारी के लिए एसपी से अनुरोध किया गया है। जल्द ही वह पुलिस गिरफ्त में होगा। 

गौरतलब है कि मंडल कारा में बंद सोनू राजवंशी को लू से पीड़ित होने के बाद इलाज के लिए सदर अस्पताल में दाखिल कराया गया था। 20 जून की अहले अस्पताल स्थित शौचालय की खिड़की को तोड़ कर वह भाग निकला था। इस बाबत जेल प्रशासन की तरफ से नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। लेकिन उसकी गिरफ्तारी के लिए अबतक सार्थक प्रयास नहीं किया जा सका है। वह अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है।

कैदी पर है संगीन आरोप

फरार हुए कैदी सोनू के खिलाफ हिसुआ थाना में प्राथमिकी दर्ज है। उसपर एक नाबालिग को अगवा कर दुष्कर्म और उसके बाद उसकी हत्या करने का आरोप है। घटना को अंजाम देने के बाद उसने शव को गांव के ही श्मशान में दफन कर दिया था। इसमें उसके दोस्त गोरेलाल राजवंशी की भी सहभागिता थी। 20 मई को दोनों को हिसुआ थाने की पुलिस ने गिरफ्तार किया था। यहां बता दें कि 21 मई को भी सोनू हिसुआ थाने के शौचालय से फरार हो गया था। हालांकि तब 12 घंटे के भीतर उसे गिरफ्तार कर लिया गया था।

4 सुरक्षाकर्मी हुए थे निलंबित

सदर अस्पताल से सोनू राजवंशी के फरार होने के मामले में जेल प्रशासन ने चार सुरक्षाकर्मियों कक्षपाल महेंद्र कुमार, अरविद भगत, रविद्र कुमार और होमगार्ड जवान रामधनी प्रसाद को निलंबित को निलंबित कर दिया था। 

नवादा से अमन सिन्हा की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News