शिक्षक दिवस पर प्रोफेसर ने शुरू किया आमरण अनशन, कहा- 'अब या तो अर्थी उठेगी या फिर HOD बनकर रिटायर होंगे

शिक्षक दिवस पर प्रोफेसर ने शुरू किया आमरण अनशन, कहा- 'अब या तो अर्थी उठेगी या फिर HOD बनकर रिटायर होंगे

मुजफ्फरपुर. जिले का बिहार विश्वविद्यालय एक बार फिर प्रदर्शन का केंद्र बन गया है, लेकिन इस बार यह प्रदर्शन शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में किसी उपलब्धि को लेकर नहीं बल्कि एक शिक्षक के द्वारा लगाए गए आरोपों के मद्देनजर है, जिसमें अर्थशास्त्र के एक प्रोफेसर ने बिहार विश्वविद्यालय के कुलपति पर यह आरोप लगाया है कि उनके कनीय शिक्षक को प्रमोट कर के एचओडी बनाया गया है, लेकिन जानबूझकर द्वेष पूर्ण नीति अपनाते हुए साल भर से हमारे प्रति निर्णय को पेंडिंग रखा गया है.

उन्होंने कहा कि लगातार शोषित होने के कारण आज ही जाकर आज शिक्षक दिवस के दिन अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हताश होकर आमरण अनशन की धमकी देते हुए अनशन पर बैठ गए. उन्होंने कहा कि अब या तो मेरी अर्थी उठेगी या फिर हम एचओडी बन कर रिटायर्ड होंगे. अर्थशास्त्र के प्रोफेसर गगन देव प्रसाद यादव का यह आरोप है कि साल भर पहले हमने अपना डॉक्यूमेंटेशन क्लियर करवा लिया था. लगातार कुलपति महोदय के संज्ञान में यह बात डाल रहे थे कि हमको एचओडी बनाया जाए, लेकिन सही उत्तराधिकारी को ना बनाकर यहां के कुलपति ने हमारे कनीय शिक्षक को समर्थन देते हुए उसे एचओडी बना दिया, जो कि नियम व कानून दोनों के लिहाज से गलत है.

शिक्षक दिवस के दिन प्रोफ़ेसर साहब आमरण अनशन की घोषणा कर अनशन पर बैठे तो, उनके समर्थन में छात्र राजद एवं अन्य संगठन भी मैदान में उतर आए. जिला विश्वविद्यालय अध्यक्ष छात्र राजद चंदन आजाद ने अनशन का समर्थन करते हुए कहा कि विद्वेष पूर्ण राजनीति के कारण ही कुलपति महोदय सोची समझी साजिश के तहत इनको एचओडी बनने से रोकने का प्रयास कर रहे हैं. यह आर पार की लड़ाई है, जिसकी शुरुआत शिक्षक दिवस के दिन की गई है..




Find Us on Facebook

Trending News