मद्य निषेध मंत्री ने कहा शराबबंदी में हुई 3 लाख लोगों की गिरफ़्तारी, कांग्रेस ने कहा बिहार में जेलों की क्षमता केवल 50 हज़ार

मद्य निषेध मंत्री ने कहा शराबबंदी में हुई 3 लाख लोगों की गिरफ़्तारी, कांग्रेस ने कहा बिहार में जेलों की क्षमता केवल 50 हज़ार

PATNA : कांग्रेस विधान पार्षद प्रेमचंद मिश्रा ने गोपालगंज, बेतिया में जहरीली शराब पीने से 23 लोगों की मौत को सरकार की विफलता बताते हुए शराबबंदी कानून को विफल बताया। उन्होंने कहा की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसकी समीक्षा तथा पुनर्विचार की जरूरत पर गौर करें।

उन्होंने विभागीय मंत्री पर इस पूरे मामले में गलतबयानी करने का आरोप लगाया और कहा कि सरकार और विभाग शराब के अवैध कारोबार और उसकी तश्करी रोकने में विफल साबित हो रहे हैं। प्रेमचंद्र मिश्रा ने पूछा कि क्या यह पुलिस,प्रसाशनिक विफलता का परिणाम नही ? आखिर इतने लोगों की मौत तथा लग्गतार हो रही मौतों की जिम्मेदारी कब तय होगी?

उन्होंने सरकार तथा विभागीय मंत्री द्वारा अवैध शराब के धंधे तथा तस्करी में शामिल तथा कानून के उल्लंघन करने मामले में 3 लाख लोगों की गिरफ्तारी संबंधी दावे और बयान को असत्य आधारहीन बताते हुए मंत्री से पूछा कि जब बिहार के जेलों की क्षमता मात्र 50 हज़ार कैदियों को रखने की है तो 3 लाख लोग जो मात्र शराबबंदी कानून के उल्लंघन में गिरफ्तार कर कहां रखा गया है यह स्पष्ट करें विभागीय मंत्री?? अपनी विफलताओं को छूपाने तथा लोगों को भ्रमित करने के लिए मंत्री को गलतबयानी से बचना चाहिए तथा ऐसे ठोस कदम उठाने चाहिए कि अवैध कारोबार और शराब की तश्करी पर रोक लगे।

प्रेमचंद मिश्रा ने कहा की कांग्रेस पार्टी शराबबंदी कानून तथा उसके प्रावधानों की समीक्षा की जरूरत की पक्षधर है। पार्टी का मानना है कि बिहार में यह कानून फेल हो चुका है तथा मुख्यमंत्री को इस संबंध में गौर कर उचित कदम उठाना चाहिए।

पटना से वंदना शर्मा की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News