लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर गया में निकाला गया प्रतिवाद मार्च, गृह राज्य मंत्री को बर्खास्त करने की मांग

लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर गया में निकाला गया प्रतिवाद मार्च, गृह राज्य मंत्री को बर्खास्त करने की मांग

GAYA : उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी (उत्तर प्रदेश) में किसानों को रौंदकर दिनदहाड़े उनकी बर्बर हत्या की घटना से पूरा देश क्षुब्ध और आक्रोशित है। इस मामले को लेकर गया में प्रतिवाद मार्च निकाला गया। इस मौके पर नेताओं ने कहा की केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र "टेनी" के बेटे और उसके गुंडों ने जिस बेखौफ तरीके से घटना को अंजाम दिया। वह उत्तर प्रदेश और केंद्र सरकार की एक गहरी साजिश दर्शाता है। अजय मिश्रा पहले ही किसानों के खिलाफ भड़काऊ और अपमानजनक भाषण देकर इस हमले की पृष्ठभूमि तैयार कर चुके थे। यह संयोग नहीं कि उसी दिन हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने सार्वजनिक तौर पर अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को किसानों के खिलाफ डंडे उठाने,जमानत की परवाह न करने,जैसे को तैसा जबाब देने जैसे बयान देकर, हिंसा के लिए उकसाने का काम किया है। इन  घटनाओं  से यह साफ हो जाता है संवैधानिक पदों पर बैठे व्यक्तियों द्वारा अपने पद का दुरूपयोग शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे अन्नदाताओं के विरुद्ध सुनियोजित हिंसा के लिए किया जा रहा है। यह कानून, संविधान और देश के प्रति अपराध है।

नेताओं ने कहा की केंद्रीय राज्य गृह मंत्री अजय मिश्र टेनी को तुरंत बर्खास्त किया जाए और उनके विरुद्ध हिंसा उकसाने और सांप्रदायिक विद्वेष फैलाने को लेकर तत्काल गिरफ्तार किया जाये। साथ ही जज की निगरानी में एसआईटी का गठन कर जांच कराई जाए।

प्रतिवाद मार्च गया समाहरणालय स्थित अम्बेडकर पार्क से शुरू होकर जीबी रोड, केपी रोड होते टावर चौक पहुंचा और सभा किया गया। प्रतिवाद मार्च का नेतृत्व अखिल भारतीय किसान महासभा जिला सचिव उपेन्द्र यादव, ऐपवा जिला सचिव रीता बर्णवाल, भाकपा-माले जिला कमेटी सदस्य रामचंद्र प्रसाद, सुदामा राम, किसान नेता नवल किशोर यादव, ऐक्टू नेता श्यामलाल प्रसाद, अर्जुन सिंह,लखन दास,सम्भु राम, मोहम्मद एजिम, नेहालुद्दीन आनंद कुमार, अखिल भारतीय खेत और अन्य मजदूर-सभा जिलाध्यक्ष श्रीचंद दास,कामता प्रसाद, बरती चौधरी आदि नेताओं ने किया।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News