जनप्रतिनिधि भी चलाये अपने अपने क्षेत्र में जन जागरण अभियान,अफवाहों से हो रही है मॉब लिंचिंग-DGP

जनप्रतिनिधि भी चलाये अपने अपने क्षेत्र में जन जागरण अभियान,अफवाहों से हो रही है मॉब लिंचिंग-DGP

MUZAFFARPUR : बिहार के डीजीपी दिन रात राज्य के किसी भी जिले के किसी भी थाने में पहुँचकर औचक निरीक्षण कर कार्य में लापरवाही बरतने वाले पुलिस पदाधिकारियों को डांट कर,समझाकर और जब नहीं माने तो फिर कार्रवाई भी कर रहे है. वहीं मित्र बनकर पुलिसकर्मियों को दिशा निर्देश देते हुए उन्हें स्मार्ट पुलिसिंग के गुर भी सिखाते हैं. बेहतर कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को सम्मान्नित करते हुए सैल्युट भी करते हैं. जबकि कार्य में शिथिलता बरतने वालों को नाप भी देते हैं.

सोमवार की देर रात समस्तीपुर और दरभंगा में अपने औचक निरीक्षण के उपरांत पटना लौटने के क्रम में डीजीपी का काफिला मुज़फ़्फ़रपुर के सदर थाना में रुका. डीजीपी के शहर में होने की सूचना मिलते ही शहर के सभी पुलिसकर्मी अलर्ट मोड पर आ गए. डीजीपी के सदर थाना में पहुँचने की सूचना पर जिले के सभी पुलिसपदाधिकारी सदर थाना पहुँच गए. एसएसपी मनोज कुमार के साथ पुलिस अधीक्षक नगर नीरज कुमार सिंह, एएसपी अभियान विमलेश चंद्र झा, पुलिस उपाधीक्षक नगर, पश्चिमी और पूर्वी समेत शहरी थाना के थानाध्यक्ष सदर थाना पहुंचे.

इस मौके पर सदर थाना के थानाध्यक्ष के कक्ष में एसएसपी मनोज कुमार, पुलिस अधीक्षक नगर नीरज कुमार सिंह, पुलिस उपाधीक्षक नगर रामनरेश पासवान और सदर थानाध्यक्ष मिथिलेश कुमार के साथ लगभग आधे घंटे तक अपराध नियंत्रण, लूट के मामले समेत विधि व्यवस्था संधारण के मुद्दों पर विस्तृत समीक्षा की. वही आने वाले त्योहारों के दौरान सतर्कता और मुस्तैदी बरतते हुए सांप्रदायिक सौहार्द में बाधा पहुँचाने वाले असामाजिक तत्वों को चिन्हित करते हुए सख्त कार्रवाई करने की भी बात कही. इसके साथ ही उन्होंने गुंडा पंजी को अद्यतन करते हुए जिले के सभी संदिग्धों और अराजक तत्वों की सूची त्योहारों के पूर्व मुख्यालय भेजने की बात कही, जिससे मुख्यालय स्तर पर इनकी निगरानी की जा सके.

उधर पटना लौटने के क्रम में डीजीपी ने मीडिया को सम्बोधित करते हुए आमजन से कहा की हाल के दिनों में बच्चा चोर की अफवाह फैला कर किसी निर्दोष, मानसिक रूप से अस्वस्थ्य और मूक-बधिर व्यक्तियों के साथ मॉब लिंचिंग की घटना घटित हो रही हैं जो अत्यंत ही दुखद है. उन्होंने कहा की बच्चा चोरी की बात पूरी तरह से अफवाह है और पूरे बिहार में ऐसा एक भी मामला प्रकाश में नहीं आया है. उन्होंने कहा की किसी भी निर्दोष और अपरिचित, मानसिक विक्षिप्त को पकड़ कर बच्चा चोरी की अफवाह फैला कर उसे मारना, पीटना और उसकी हत्या कर देना एक जघन्य अपराध है. ऐसा करने वाले और अफवाह फैलाने वालों को बख्शा नहीं जायेगा. उन्हें चिन्हित कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जायेगा. जेल जायेंगे, उनके खिलाफ स्पीडी ट्रायल चला कर उन्हें सजा दिलवाई जाएगी, जो माननीय सुप्रीम कोर्ट का दिशा निर्देश भी है.

डीजीपी पाण्डेय ने तमाम मुखिया, भूतपर्व मुखिया, सरपंच, वार्ड पार्षदों, वार्ड मेंबर, विधायक, सांसदों से अनुरोध करते हुए कहा की गांवों में, टोलों-मुहल्लों में और अपने-अपने क्षेत्रों में जन जागरण अभियान चलाकर लोगों को जागरूक करें और बताये की बच्चा चोरी मात्र एक अफवाह है. और इस तरह की अफवाह को नजरअंदाज करें और ऐसी बातों पर ध्यान ना देकर विधि व्यवस्था के साथ खिलवाड़ ना करें और क़ानून को अपने हाथ में ना लें.

डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय ने मीडिया के माध्यम से आमलोगों से अपील करते हुए कहा की बच्चा चोर जैसी अफवाहों पर ध्यान ना दें और कानून  को हाथ में ना लें ना ही विधि व्यवस्था संधारण में बाधा उत्पन्न करें. ऐसी अफवाह फैला कर इसके पीछे होने वाले मंसूबों को अंजाम तक पहुंचाने वाले बहुत शातिर लोग हैं जो आप जैसे भोले भाले लोगों को अपना शिकार बना कर अपना मतलब साधते हैं और समाज को बाँटने का कार्य करते हुए साम्प्रदायिक माहौल बिगाड़ने का प्रयास करते हैं. ऐसी अफवाह और इसको फैलाने वालों से सावधान रहें और झांसे में ना आये.

मुजफ्फरपुर से मनोज कुमार की रिपोर्ट 


Find Us on Facebook

Trending News