खगड़िया में टल गया बड़ा रेल हादसा, भीड़ के पुल पार करने के दौरान आई ट्रेन

खगड़िया में टल गया बड़ा रेल हादसा, भीड़ के पुल पार करने के दौरान आई ट्रेन

KHAGARIA : कोशी क्षेत्र के प्रसिद्ध शक्तिपीठ मंदिर मां कत्यायनी मंदिर में दर्शन के लिए इतनी भीड़ बढ़ गयी की कोरोना के सारे नियम तो गायब हो ही गए. एक बड़ा हादसा होने से भी बच गया. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया की मंदिर के पास बने रिटायर रेलवे पुलिया पर इतनी भीड़ बढ़ गया की देखने वाले भी आश्चर्यचकित रह गए. बात इतने पर नहीं रुकी. चालू रेल पुल न०-50 पर भी भक्त श्रद्धालुओं का एक जत्था पार होने लगा. तभी  सहरसा पटना इंटरसिटी एक्सप्रेस पार करने लगी. 

हालाँकि मौके पर अफरा तफरी मच गयी. उधर एक पुल पार कर रहे बाइक सवार युवक ने बाइक छोड़कर अपना जान बचाया. जब तक कुछ समझ में आता. बाइक का परखच्चा उड़ गया. वहीं प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया की एक ओर बाइक भी पुल के नीचे गिर पड़ा. हालाँकि इस दौरान जान-माल की कोई क्षति नहीं हुई. लेकिन गाड़ी चालक के सुझ-बुझ ने बड़ा हादसा होने से बचा लिया. ऐसा हुआ की चालू रेल पुल से लोग आवागमन कर रहे थे. तभी दूर से लोगों को देखकर चालक ने गाड़ी को धीमी गति पर कर दिया एवं रोक दिया. लेकिन तब तक तेज गति में बाइक को चला रहा सवार गाटर में टकरा गया. सवार ने अपना जान तो बचा लिया. लेकिन बाइक चकनाचूर हो गया. 

बतातें चलें की कोरोना में मां कत्यायनी मंदिर में दर्शन के लिए रोक लगा दिया गया था. लेकिन बाद में कोरोना के नये गाइडलाइन के साथ मंदिर को दर्शन के लिए खोला गया. लेकिन आज सोमवार को सभी गाइडलाइन का धज्जी उड़ाते हुए भीड़ इतना उमड़ा की पुल से लेकर मंदिर परिसर तक एक अलग नजारा देखा गया. 

इस तरह गाड़ी चालक की सुझ बुझ ने बड़ा हादसा होने से बचा लिया नहीं तो आज फिर राज्यरानी एक्सप्रेस वाली घटना को याद दिलाता. जिसमें 19 अगस्त 2013 को राज्यरानी एक्सप्रेस के चपेट में 37 लोगों को जान गंवाना पड़ गया था ओर पचास से ज्यादा लोग घायल हो गये थे‌. हालाँकि जिला प्रशासन का लापरवाही का आलम है की कोई भी समुचित व्यवस्था श्रद्धालुओं के लिए नहीं किया. इधर रेल थानाध्यक्ष मानसी से पुछा गया तो उन्होनें घटना पर अनभिज्ञता जाहिर किया. थानाध्यक्ष ने कहा की भगदड़ होने की खबर मिला लेकिन बाइक दुर्घटना का कोई जानकारी नहीं है. 

खगड़िया से अनिश कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News