नेत्रहीन लोगों को संगीत की शिक्षा देकर उनकी जिंदगी में रोशनी भर रही है कटिहार की पम्मी, एक बेहतर शिक्षक की बन रही मिसाल

नेत्रहीन लोगों को संगीत की शिक्षा देकर उनकी जिंदगी में रोशनी भर रही है कटिहार की पम्मी, एक बेहतर शिक्षक की बन रही मिसाल

KATIHAR : अपने दम पर दुनिया बदलने की कोशिश से जुड़ी कई कहानियां आपने अब तक सुने होंगे मगर शिक्षक दिवस से पहले आपको एक ऐसे संगीत शिक्षका से मिलवा रहे हैं जिसके बारे में जानकर आप कहेंगे कि सच में ऐसे गुरु अगर सबको मिल जाए तो अंधेरे में भी उजाला हो सकता है, कटिहार के पम्मी चौधरी को खासकर आंखों से दिव्यांग बच्चों के 'नयन तारा' कहा जाए तो शायद ही गलत होगा।

पम्मी दीदी अपने दम पर तमाम बाधाओं को तोड़ते हुए दिव्यांग बच्चों को संगीत और वाद्य यंत्र के लिए प्रशिक्षित करते हैं, बड़ी बात यह है आर्थिक रूप से बेहद संपन्न नहीं होने के कारण उनके पास कोई स्थाई ठिकाना नहीं है, इसलिए दिव्यांग बच्चों को कभी उनके घर के आसपास के मंदिर में या कभी पेड़ के नीचे संगीत और वाद्य यंत्र का शिक्षा दे कर उन्हें बेहतर मंच उपलब्ध करवाते है,पम्मी दीदी के पास म्यूजिक के सिख लेने वाले छात्र-छात्रा भी अपने हुनर से अपने प्रतिभा का लोहा मनवा रहे हैं आगे यह छात्र-छात्रा कहते हैं अगर दीदी का ऐसा सहयोग रहे तो एक दिन वे लोग अपना जिला और राज्य के नाम रोशन करेंगे। 

वहीं इस तरह के अनोखे सामाजिक कार्य से जुड़े पम्मी चौधरी करते हैं दिव्यांग बच्चों को इस तरह से प्रशिक्षित करना है काफी चुनौती है लेकिन तमाम संघर्षों के बावजूद उन्हें इन बच्चों के लिए इस तरह का काम करना बेहद अच्छा लगता है। न्यूज4नेशन से बात करते हुए पम्मी दीदी ने बताया इन लोगों को प्रशिक्षित करने के लिए जगह नहीं है, अगर प्रशासन उन्हें जगह उपलब्ध करा देती है, तो ऐसे कई दिव्यांग लोग हैं, जिनकी जिंदगी को संवारा जा सकता है। उनका कहना है कि दिव्यांगों के पास कई प्रतिभा होती है, बस उन्हें निखारने की जरुरत है।

Find Us on Facebook

Trending News