QUAD SUMMIT 2021: 24 सितंबर को वाशिंगटन में होगा क्वाड शिखर सम्मेलन, पहली बार मोदी-बाइडेन की होगी मुलाकात, चीन हुआ परेशान

QUAD SUMMIT 2021: 24 सितंबर को वाशिंगटन में होगा क्वाड शिखर सम्मेलन, पहली बार मोदी-बाइडेन की होगी मुलाकात, चीन हुआ परेशान

NEW DELHI :  प्रधानमंत्री मोदी 23 सितंबर को अमेरिका के लिए रवाना होने वाले हैं। बता दें कि 24 सितंबर को प्रत्यक्ष तरीके से क्वाड शिखर सम्मेलन आयोजित होने जा रहा है। पीएम मोदी क्वाड देशों की शिखर बैठक एवं यूएन महासभा की बैठक में शरीक होंगे। इस सम्मीट में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन, जापान के निवर्तमान प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा भी हिस्सा लेंगे। अमेरीका के राष्ट्रपति जो बाइडेन पहली बार क्वाड शिखर सम्मेलन को होस्ट करने जा रहे हैं। ऐसे में पीएम मोदी के साथ राष्ट्रपति जो बाइडेन की द्विपक्षीय मुलाकात का कार्यक्रम भी तय कर दिया है। व्हाइट हाउस से मिली जानकारी के अनुसार चारों नेता मुक्त एवं खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र को बढ़ावा देने और जलवायु संकट से निबटने के बारे में बात करेंगे। यही नही वह अपने संबंधों को और प्रगाढ़ करने तथा कोविड-19 एवं अन्य क्षेत्रों में व्यवहारिक सहयोग को बढ़ाने के बारे में भी वार्ता करेंगे। इस मौके पर उभरती प्रौद्योगिकियों तथा साइबर स्पेस के बारे में भी बात की जाएगी।

मोदी का स्वागत करने के लिए उत्सूक हैं बाइडेन

राष्ट्रपति जोसफ आर बाइडन जूनियर व्हाइट हाउस में 24 सितंबर को व्यक्तिगत उपस्थिति वाले पहले क्वाड शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेंगे। व्हाइट हाउस में हो रहे समिट में बाइडेन पीएम  मोदी के साथ ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा का स्वागत करने के लिए उत्सुक हैं।’ साकी ने आगे कहा कि क्वाड को बढ़ावा देना बाइडन प्रशासन के लिए पहली प्राथमिकता है, जो मार्च में डिजीटल क्वाड नेताओं के पहले सम्मेलन में साफ नजर आ गया था। मार्च और अब के सम्मेलन में सिर्फ इतना अंतर है कि तब यह ऑनलाइन तौर पर आयोजित किया गया था और 24 सितंबर को यह प्रत्यक्ष तौर पर जाने वाला है। ऑनलाइन सम्मेलन की मेजबानी राष्ट्रपति बाइडन ने ही की थी तथा इसमें मुक्त, खुले, समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए प्रयास करने का संकल्प लिया गया था।

किन मुद्दों पर कि जाएगी बातचीत?

प्रधानमंत्री मोदी के अमेरीका दौरे पर जाने से पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर न्यूयॉर्क से इतर कई बैठक करेंगे। विदेश मंत्री द्वारा बताया गया कि मोदी 24 सितंबर को वाशिंगटन में क्वाड के नेताओं के शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे। खबरों के मुताबिक चारों नेता 12 मार्च को हुए ऑनलाइन शिखर सम्मेलन के बाद हुई प्रगति की समीक्षा करेंगे और साझा हित के क्षेत्रीय मुद्दों पर भी चर्चा करने वाले हैं। विदेश मंत्रालय ने यब भी कहा कि, ‘‘शिखर सम्मेलन, नेताओं के बीच संवाद तथा बातचीत के लिए एक मूल्यवान अवसर प्रदान करेगा, जो एक स्वतंत्र, मुक्त और समावेशी हिंद-प्रशांत को सुनिश्चित करने के उनके साझा दृष्टिकोण पर आधारित है।’’ मंत्रालय ने आगे कहा कि, ‘‘कोविड-19 वैश्विक महामारी से निपटने के उनके प्रयासों के तौर पर, वे क्वाड टीकाकरण पहल की समीक्षा करेंगे, जिसकी घोषणा मार्च में की गई थी।’’ मंत्रालय के बयान में यह भी कहा गया कि चारों नेता महत्वपूर्ण एवं उभरती प्रौद्योगिकियों, सम्पर्क और बुनियादी ढांचे, साइबर सुरक्षा, समुद्री सुरक्षा, मानवीय सहायता, आपदा राहत, जलवायु परिवर्तन और शिक्षा जैसे समकालीन वैश्विक मुद्दों पर भी विचारों का आदान-प्रदान करेंगे।

क्वाड शिखर सम्मेलन से परेशान है चीन

चीन ने अमेरीका के राष्ट्रपति और उनके द्वारा आयोजित आगामी क्वाड शिखर सम्मेलन पर निशाना साधते हुए कहा है कि ‘दूसरे देशों के लक्षित करने के लिए ‘गुटबाजी’ काम नही आएगी और इसका कोई भविष्य भी नही है’। उन्होंने आगे कहा कि , ‘‘चीन का मानना है कि किसी भी क्षेत्रीय सहयोग ढांचे को समय की प्रवृत्ति के साथ होना चाहिए और क्षेत्र के देशों के बीच आपसी विश्वास तथा सहयोग के अनुकूल होना चाहिए। इसके जरिए किसी तीसरे पक्ष को निशाना नहीं बनाना चाहिए या उनके हितों को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए।’’ और अंत में लिजियान ने कहा कि ‘चीन दुनिया में शांति फैलाने का प्रतिक है’।

जापान सरकार ने सम्मेलन से जतायी बेहद उम्मीद

तोक्यो में, जापान सरकार के प्रवक्ता, मुख्य कैबिनेट सचिव कात्सुनोबू कातो ने संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा कि जापान सरकार को बेहद उम्मीद है कि इस क्षेत्र के समक्ष आम मुद्दों पर नेताओं के बीच स्पष्ट चर्चा होगी, जिसमें स्वतंत्र और खुले हिंद-प्रशांत की अवधारणा को बढ़ावा देना और कोरोना वायरस महामारी से निपटने के विषय भी शामिल होगें। सुगा ने 29 सितंबर को लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के नेतृत्व के चुनाव में हिस्सा नहीं लेने की घोषणा की है जिससे पार्टी के नए नेता के लिए रास्ता साफ हो गया है जो जापान का अगला प्रधानमंत्री भी बनेगा। जापान के विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोतेगी ने संवाददाताओं से कहा कि, ‘‘जापान-अमेरिका गठबंधन के महत्व या स्वतंत्र एवं खुले हिंद-प्रशांत के लक्ष्य को हासिल करने पर हमारा रूख एक जैसा है, चाहे कोई भी पार्टी का अगला नेता प्रधानमंत्री बने।’’

Find Us on Facebook

Trending News