नफरत और बंटवारे के खिलाफ राहुल शुरू कर रहे हैं भारत जोड़ो यात्रा, तो भाजपा ने क्यों कहा – ये बांटने वाले हैं

नफरत और बंटवारे के खिलाफ राहुल शुरू कर रहे हैं भारत जोड़ो यात्रा, तो भाजपा ने क्यों कहा – ये बांटने वाले हैं

DESK. कांग्रेस आज से भारत जोड़ो यात्रा की शुरूआत कर रही है। यात्रा शुरू करने के पूर्व राहुल गांधी ने बुधवार को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर अपने पिता की शहादत स्थली पर श्रद्धांजली दी. उन्होंने कहा, नफरत और बंटवारे की राजनीति में मैंने अपने पिता को खो दिया। मैं अपने प्यारे देश को भी इसमें नहीं खोऊंगा। प्यार नफरत को जीत लेगा। आशा डर को हरा देगी। हम सब मिलकर मात देंगे।

वहीं, कांग्रेस की इस यात्रा पर भाजपा ने तंज कसा है। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि जो अपने को अपनी पार्टी से भी नहीं जोड़ सके, वो भारत जोड़ने की यात्रा पर निकले हैं। संवाददाता संम्मेलन में भाजपा नेता ने कहा कि कांग्रेस में एक दरबारी गायन होता है कि राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाओ, फिर अध्यक्ष बनाओ...राहुल कहते हैं कि मैं नहीं बनूंगा, बीच में वो विदेश यात्रा पर चले जाते हैं, पार्टी से कितना जुड़े हैं ये आप सभी जानते हैं। भाजपा ने हमला जारी रखते हुए कहा कि यह सबसे खराब व्यवस्था का पाखंड है क्योंकि राहुल गांधी ने उरी और बालाकोट की घटना के लिए सबूत मांगकर देश की एकता को कमजोर करने की कोशिश की थी।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हिंदुस्तान की एक संस्कृति रही है कि सेना की शहादत, सेना के शौर्य और सेना के बलिदान पर कभी सवाल नहीं करते हैं। राहुल जी आपने तो उसका सबूत मांगा। राहुल जी ये आपने देश की सामरिक सुरक्षा और सेना के त्याग को भी तोड़ने की कोशिश की, और आप देश जोड़ने की बात करते हैं। इस तरह यह यात्रा देश को एकजुट करने के लिए नहीं है, बल्कि राहुल गांधी को फिर से शुरू करने के लिए है! उनका नेतृत्व, यह स्पष्ट है, एक पूर्ण विफलता है। आपको बता दें कि राहुल गांधी ने यात्रा शुरू करने से पहले श्रीपेरंबुदूर में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के स्मारक पर सुबह श्रद्धांजलि अर्पित की और एक प्रार्थना सभा में शामिल हुए। ‘भारत जोड़ो यात्रा’ कन्याकुमारी से कश्मीर तक की होगी। 

इसके साथ ही रवि शंकर प्रसाद ने नीतीश कुमार पर भी हमला बोला। दरअसल, नीतीश कुमार भाजपा से गठबंधन तोड़ने के बाद महागठूंधन के साथ मिलकर बिहार में फिर से सरकार बना ली है। इसके बाद से वह विपक्षी एकता को मजबूत करने में लगे हुए है। 2024 के लिहाज से उनका यह कदम काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इसी पर निशाना साधते हुए रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि नीतीश कुमार अवसरवादी गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुझे बताया गया है कि बिहार के पूर्व कानून मंत्री फरार चल रहे हैं; जबकि राज्य में अपराध की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। यह नीतीश कुमार जी के बनाए नए गठबंधन का परिणाम है। मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूँ। उन्होंने दावा किया कि बार-बार ऊंची छलांग लगाने वाली अर्थव्यवस्था के निर्माण के जरिए पीएम मोदी ने देश को नई उम्मीदें दी हैं।


Find Us on Facebook

Trending News