रेल कर्मियों को मिलेगा सभी बुनियादी सुविधाओं से लैस 2BHK व 3BHK फ्लैट, तेजी से हो रहा है निर्माण कार्य

रेल कर्मियों को मिलेगा सभी बुनियादी सुविधाओं से लैस 2BHK  व 3BHK फ्लैट, तेजी से हो रहा है निर्माण कार्य

CHHAPRA : अब छपरा जंक्शन पर कार्यरत रेल कर्मियों को जर्जर क्वार्टर व फ्लैटों से मुक्ति मिलेगी। उन्हें चकाचक और सभी सुविधाओं से लैस टू बीएचके और 3BHK के फ्लैट मिलेंगे। इसके लिए वाराणसी मंडल के अधिकारियों ने तैयारी शुरू कर दी है। छपरा जंक्शन के आरपीएफ बैरक के पास खाली जमीन पर निर्माण कार्य भी शुरू हो गया है। निर्माण कार्य की गति इतनी तेज है की बारिश में भी कार्य को जारी रखा गया है।

इतने फ्लैट बनाए जा रहे-

छपरा जंक्शन के अधिकारियों और इंजीनियरों की बात माने तो उनके अनुसार जंक्शन पर टाइप टू और टाइप 3 किस्म के क्वार्टर बनाए जा रहे हैं। कुल 58 क्वार्टर या फ्लैटों का निर्माण किया जा रहा है इनमें टाइप टू स्तर के 56 फ्लैट होंगे । जो कि तीन मंजिला होंगे, वही टाइप 3 स्तर के 12 फ्लैटों का निर्माण किया जाएगा। यह दो मंजिला होंगे।

इन्हें मिलेगा यह फ्लैट-

रेलवे के निर्धारित नियमों के अनुसार 3 कमरे वाला फ्लैट सुपरवाइजर रैंक के अफसरों को मिलेगा। इनमें स्टेशन अधीक्षक, टी आई, स्टेशन डायरेक्टर व अन्य अधिकारी शामिल होंगे। वहीं दो कमरों वाला फ्लैट सामान्य रेल कर्मियों को आवंटित किया जाएगा। इसके अलावा जो भी रेलवे बोर्ड के नियम है। उसी के अनुसार ही फ्लैटों का आवंटन होगा फिलहाल फ्लैटों का निर्माण अभी चल रहा है मार्च 2022 तक निर्माण कार्य पूरा होने की बात बताई जा रही है।

फ्लैटों में यह होंगी बुनियादी सुविधाएं

रेल कर्मियों के लिए बन रहे फ्लैटों में सभी बुनियादी सुविधाओं के साथ ही आधुनिक सुविधाएं भी बहाल की जाएंगी। इनमें बिजली, पानी, टेलीफोन, इंटरनेट, रनिंग वाटर सप्लाई ,बेहतर शौचालय, स्नानागार, जनरेटर की सुविधा आदि बहाल रहेंगी। क्वार्टरों में रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम भी बहाल किए जा रहे हैं। सभी क्वार्टर मुख्य सड़कों से सीधे तौर पर जुड़े हुए हैं। गार्डनिंग आदि का भी ख्याल रखा गया है।

6 करोड होंगे खर्च

इन फ्लैटों के निर्माण में 6 करोड रुपए खर्च किए जाएंगेे। फ्लैटों के निर्माण में इस बात का ख्याल रखा जा रहा है कि यह भूकंप रोधी हो यानी भूकंप के झटके भी सह सके। आपदा के कई प्रकारों को भी सहने की गुणवत्ता इसमें बहाल की जा रही है। शायद यही कारण है कि इन क्वार्टरों के निर्माण में सामान्य से अधिक राशि खर्च की जा रही है।

क्या कहते हैं इंजीनियर

छपरा जंक्शन पर चल रहे वाटर निर्माण का कार्य गुणवत्तापूर्ण है। इसमें हर तकनीकी बिंदुओं को ख्याल में रखते हुए निर्माण कार्य कराया जा रहा है । मार्च 22:00 तक क्वार्टरों का निर्माण कार्य पूरा हो जाने की उम्मीद है।


Find Us on Facebook

Trending News