बिहार के विलुप्त हो रहे सिक्की आर्ट को रेलवे ने दिया सहारा, वन नेशन, वन स्टेशन के तहत खुला पहला स्टॉल

बिहार के विलुप्त हो रहे सिक्की आर्ट को रेलवे ने दिया सहारा, वन नेशन, वन स्टेशन के तहत खुला पहला स्टॉल

KATIHAR : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक सोच से बिहार खासकर कटिहार के कभी पहचान रहे एक कला को फिर से देशभर में अपनी पहचान बनाने का मौका मिल रहा है, देश-विदेश में अपनी अनोखी कला सिक्की आर्ट के लिए फेमस सद्दाम को वन-स्टेशन,वन-प्रोडक्ट के तहत कटिहार जंक्शन के एक नंबर प्लेटफार्म पर अपनी कलाकृति को प्रदर्शित और बिक्री के लिए स्टॉल आवंटित करवाया गया है।

बताते चलें दियारा क्षेत्र के एक खास तरह के घास जिसे स्थनीय भाषा मे कुश भी कहा जाता है, उसके सहारे शानदार तरीके से कलाकृति को उकेरा जाता है और यह इस तरह का आर्ट सद्दाम को कई पुरस्कार और सम्मान भी दिला चुका है लेकिन इसके बावजूद इस अनोखे कला को जो प्रचार-प्रसार होना चाहिए था वह नहीं हो पाया था। 

मगर अब कटिहार जंक्शन में इस स्टॉल के माध्यम से अच्छा रिस्पांस मिलने से सद्दाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति आभार जताते हुए, उन जैसे कलाकारों के लिए इसे वरदान बता रहे हैं, वही दूरदराज से कटिहार हो कर यात्रा के क्रम में रुकने वाले रेल यात्री भी इस सिक्की आर्ट से बेहद प्रभावित है।

सद्दाम ने बताया कि वह 20 साल से इस आर्ट से जुड़े हैं. कई जगह उनके काम की प्रशंसा भी मिली, लेकिन इसके बाद भी लोगों के बीच इस आर्ट की पहुंच नहीं हो पा रही थी। लेकिन अब स्टॉल खुलने के बाद लोग यहां पहुंच रहे हैं. जानकारी ले रहे हैं और इसे खरीद भी रहे  हैं। सद्दाम ने बताया कि उनके बनाए गई कलाकृत्ति को देश के कई राज्यों सहित मॉरिशस तक गई है। यह 200 से लेकर 50000 तक मिलता है।



Find Us on Facebook

Trending News