फेस्टिवल सीजन के नाम पर यात्रियों को लूट रही है रेलवे, एक टिकट के लिए वसूल रहे हैं चार गुना अधिक किराया

फेस्टिवल सीजन के नाम पर यात्रियों को लूट रही है रेलवे, एक टिकट के लिए वसूल रहे हैं चार गुना अधिक किराया

PATNA : अब तक एयरलाइंस सर्विस में ही यह देखा जाता था कि टिकट की डिमांड बढ़ने या फेस्टिवल सीजन में रेट बढ़ा दिए जाते थे। चूंकि विमानों में ज्यादातर संपन्न वर्ग के लोग सफर करते हैं. इसलिए रेट बढ़ने को लेकर ध्यान नहीं दिया जाता था। लेकिन अब रेलवे ने भी यही काम शुरू कर दिया है। आनेवाले फेस्टिवल सीजन में टिकट बुकिंग को देखते हुए रेलवे ने टिकटों के लिए मौजूदा कीमत  से लगभग चार गुना  अधिक किराया वसूल रही है। अगर दीपावली, छठ के दौरान बिहार आना चाहेंगे तो रेलवे ही आपकी जेब खाली करा देगी। 

लिया चार गुना अधिक किराया 

एक रेल यात्री ने आनेवाले फेस्टिवल सीजन के दौरान सतना से पटना के लिए 82356 सुविधा एक्सप्रेस में 26 अक्टूबर के लिए स्लीपर में टिकट बुक कराया। आम तौर सतना से पटना के लिए पटना के लिए स्लीपर का किराया 345-350 के बीच होता है, लेकिन इस बार बुकिंग करने पर वह रेल यात्री भी हैरान रह गया, जब IRCTC की साइट पर बुकिंग कराने पर मौजूद दर के लगभग चार गुना अधिक राशि पेंमेट करने को कहा गया। जिस सीट के लिए 345 रुपए देने थे, उसके लिए रेलवे ने 1253 रुपए वसूले। जिस ट्रेन में यह बुकिंग की गई, वह पटना से मुंबई के बीच चलती है, जिसमें मुंबई तक के लिए 645 रुपए स्लीपर का चार्ज लिया जाता है। लेकिन सुविधा के नाम पर रेलवे यात्रियों से अधिक किराया वसूल रही है। 

कैसे आएंगे बिहारी मजदूर

आनेवाले त्योहारों में हजारों की संख्या में बिहारी मजदूर और दूसरे लोग अपने घर लौटते हैं। जो कड़ी मेहनत कर कुछ पैसे कमा पाते हैं, ताकि वह परिवार के लिए और अपने घर के लिए खर्च कर सकें। लेकिन जिस तरह से रेलवे ने फेस्टिवल सीजन के नाम पर टिकट के किराए में चार गुना वृद्धि की है, उसके बाद यह कहना गलत नहीं होगा कि इस बार रेलवे इस बार यात्रियों को लूट रही है।

पहले नहीं था ऐसा

हर साल फेस्टिवल सीजन में रेलवे द्वारा कुछ स्पेशल ट्रेनें चलाई जाती है। इस बार भी इसकी घोषणा की गई है। लेकिन इन ट्रेनों को चलाने का उद्देश्य सिर्फ यह होता था कि रेल यात्रियों को त्योहार में अपने घर जाने में किसी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। लेकिन मौजूदा मोदी सरकार ने हर चीज की तरह रेल सफर को भी अब महंगा कर दिया है। अच्छे दिन के नाम पर गरीब और आम लोगों की ट्रेन अब उनसे दूर होती जा रही है। जिसमें सफर करना अब गरीब और सामान्य वर्ग के लोगों के लिए मुश्किल होता जा रहा है।

Find Us on Facebook

Trending News