IPL में 14 साल का वनवास खत्म कर खिताब जीतने के इरादे से उतरेगी राजस्थान रॉयल्स, रोकने के लिए पूरी चुनौती पेश करेगी गुजरात टाइंटस

IPL में 14 साल का वनवास खत्म कर खिताब जीतने के इरादे से उतरेगी राजस्थान रॉयल्स, रोकने के लिए पूरी चुनौती पेश करेगी गुजरात टाइंटस

PATNA : आईपीएल के 15वें सीजन का आज महामुकाबला दुनिया में क्रिकेट के सबसे बड़े नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेला जाएगा। आमने सामने होंगे आईपीएल में पर्दापण के साथ अपने खेल से सभी का दिल जीतनेवाले हार्दिक पांड्या की गुजरात टाइंटस और 2008 में पहले आईपीएल के चैंपियन रहे राजस्थान रॉयल्स, जो कि 14 साल के बाद फाइनल मुकाबले में पहुंची है। अहमदबाद के विशाल स्टेडियम में सवा लाख से अधिक दर्शकों के बीच खेले जानेवाले मुकाबले के रोमांच का क्रिकेट फैंस को भी इंतजार है
 शेनवार्न को देंगे श्रद्धाजंली

राजस्थान रॉयल्स की कोशिश इस ट्राफी को जीतने को होगी। राजस्थान की टीम पहले ही यह कह चुकी है कि अगर वह चैंपियन बनते हैं तो यह जीत दिग्गज स्पिन गेंदबाज शेनवार्न को समर्पित होगी। शेनवार्न की कप्तानी में ही राजस्थान रायल्स पहली बार चैंपियन बनी थी। इसके बाद भी वार्न कई साल तक राजस्थान के मेंटर के तौर पर जुड़े रहे हैं। वार्न की दो माह पहले मौत हो गई थी। ऐसे में आईपीएल में जीत दर्ज कर राजस्थान उन्हें श्रद्धाजंली देगी।


खिताब की मजबूत दावेदार है गुजरात

आईपीएल में खिताब का मजबूत दावेदार गुजरात टाइंटस को माना जा रहा है। फाइनल मुकाबले से पहले लीग मैचों में राजस्थान रॉयल्स के साथ खेले गए दोनों मैच में गुजरात की टीम ने शानदार जीत दर्ज की थी। इस लिहाज से गुजरात का पलड़ा भारी कहा जा सकता है। इसके अलावा फाइनल मुकाबला गुजरात की राजधानी में खेला जाना है। जिसके कारण स्थानीय दर्शकों का पूरा समर्थन गुजरात को मिलेगा। करीब सवा लाख दर्शक हार्दिक पंड्या की टीम को चियर करते हुए नजर आ सकते हैं।

बटलर कर सकते हैं बड़ा खेल

गुजरात की जीत की राह में सबसे बड़ी बाधा जोस बटलर और संजू सैमसन की जोड़ी है। दोनों में पूरे टूर्नामेंट में शानदार खेल दिखाया है। खास तौर पर जोस बटलर ने अपने खेल से कई मैचों का रूख बदला है। बटलर अब तक चार शतकों के साथ मौजूदा आईपीएल में लगभग आठ सौ से ज्यादा रन बना चुके हैं। दूसरे एलमीनिटेर मैच में भी उन्होंने आरसीबी के खिलाफ शानदार शतक लगाकर गुजरात को चेतावनी दे दी है। ऐसे में हार्दिक पांड्या को बटलर को रोकने के लिए बड़ी रणनीति बनाने की जरुरत है। अगर बटलर फिर से चले तो गुजरात के हाथों से जीत की ट्रॉफी भी खिसकने से रोका नहीं जा सकता है।

Find Us on Facebook

Trending News