बिहार में राजपूत-यादव समीकरण के भरोसे बीजेपी! उम्मीदवारों की लिस्ट क्या कहती है?

PATNA : रविवार को एनडीए में सीट बंटवारे का ऐलान होने के साथ बीजेपी के संभावित उम्मीदवारों की लिस्ट लगातार चर्चाओं में है। हालांकि पार्टी ने अब तक आधिकारिक तौर पर उम्मीदवारों के नाम का ऐलान नहीं किया है। लेकिन बीजेपी को जिन 17 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारना है, वहां के संभावित चेहरे नए सियासी समीकरण की तरफ इशारा कर रहे हैं।

बीजेपी उम्मीदवारों के संभावित सूची देखकर ऐसा लगता है कि पार्टी ने बिहार में 'राजपूत' और 'यादव' जाति के गठजोड़ वाले समीकरण की तरफ अपना रुख कर लिया है। हालांकि 'सबका साथ सबका विकास' का नारा देने वाली बीजेपी लगातार यह कहते रही है कि वह समाज के सभी तबकों को साथ लेकर चलती है बावजूद इसके उम्मीदवारों की संभावित लिस्ट बता रही कि बीजेपी बिहार में सबसे ज्यादा उम्मीदवार राजपूत जाति से उतारेगी, दूसरा नंबर यादव जाति से आने वाले उम्मीदवारों का होगा। 

बीजेपी को बिहार में जिन 17 सीटों पर उम्मीदवार देने हैं उनमें राजपूत जाति से आने वाले राधा मोहन सिंह पूर्वी चंपारण से, राजीव प्रताप रूढ़ी सारण से, सुशील सिंह औरंगाबाद से, जनार्दन सिंह सिग्रीवाल महाराजगंज से और आरके सिंह की आरा से उम्मीदवारी तय मानी जा रही है। इसके अलावे बीजेपी यादव जाति से आने वाले रामकृपाल यादव को पाटलिपुत्र से, प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय को उजियारपुर से और मधुबनी से हुकुमदेव नारायण यादव के बेटे अशोक यादव को उम्मीदवारी देगी। कुल 17 में से 8 उम्मीदवार बीजेपी 'राजपूत' और 'यादव' जातियों से उतारने जा रही है। बीजेपी का रुख बता रहा है कि बिहार में वह इस जातीय समीकरण के साथ विरोधियों को साधने की तैयारी में है।

Find Us on Facebook

Trending News