सिमरिया में होने वाले रामकथा और साहित्य महाकुंभ जैसा आयोजन दुनिया में पहले कभी नहीं हुआ - मुरारी बापू

BEGUSARAI :  सिमरिया के पावन गंगा तट पर 2 दिसम्बर से रामकथा और साहित्य महाकुंभ का आयोजन किया जा रहा है। इसकी तैयारी जोर-शोर से चल रही है। महान संत और रामकथा वाचक मुरारी बापू यहां रामकथा सुनाएंगे। इसकी तैयारी को लेकर मुरारी बापू ने कहा है कि सिमरिया में जो रामकथा और साहित्य महाकुंभ का आयोजन हो रहा है दुनिया में उस तरह का आयोजन कहीं और नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि  मैंने अपने जीवन में इतने व्यापक स्वरूप में पहले कभी रामकथा नहीं कही है।

विपिन ईश्वर  ने आयोजन के लिए दिन-रात एक किया

मुरारी बापू ने कहा है कि राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की स्मृति में सिमरिया के गंगा तट पर साहित्य महाकुंभ और रामकथा का आयोजन किया जा रहा है। बेगूसराय के रहने वाले विपिन ईश्वर इस आयोजन को सफल बनाने के लिए दिन रात एक किये हुए हैं। वे पागलों की तरह अपनी धुन में काम कर रहे हैं। करीब एक साल से इस आयोजन की तैयारी की जा रही है। 

इस महाआयोजन के लिए कई पांच किलोमीटर के दायरे में विदेशी कंपनी द्वारा श्रद्धालुओं के रहने के लिए पंडाल का निर्माण किया जा रहा है। यह पहला आयोजन है जहां जैविक खेती के माध्यम से उपजाये गये अन्न से प्रसाद बनाया जाएगा। साथ ही इस आयोजन में प्रसाद बनाने के लिए 45 टन गाय के घी का इस्तेमाल किया जाएगा। इस विराट आयोजन के तहत सुबह में मुरारी बापू के मुखारविंद से जहां रामकथा की अमृतर्षा की जाएगी वहीं शाम में हिन्दी साहित्याकाश के नक्षत्र राष्ट्रकवि दिनकर की धरती पर देश विदेश के साहित्यकारों के व्याख्यान भी होंगे।

Find Us on Facebook

Trending News