पहली बार 800 श्रद्धालु यात्रियों के साथ बिहार पहुंची रामायण एक्सप्रेस

Sitamadhi: आयोध्या से रामलला के दर्शन के बाद बड़ी संख्या में श्रद्धालु पर्यटक आज सुबह करीब 9 बजे माँ जानकी की जमभूमि सीतामढ़ी रामायण एक्सप्रेस ट्रेन से पहुंचे। करीब 800 की संख्या में पहुंचे प्रयटकों को स्थानीय लोगो का सीतामढ़ी जंक्शन पर रेलवे अधिकारियों द्वारा भव्य स्वागत किया। सभी पर्यटकों को रेलवे स्टेशन से बस सेवा से माँ जानकी की जन्म भूमि पुरौरा धाम मंदिर पहुंचाया गया। जहां उनके रहने के साथ-साथ हर सुविधा की व्यवस्था मंदिर प्रशासन ने कर रखी है। 

बताते चले कि अयोध्या के आध्यात्मिक तेज को रामायण एक्सप्रेस से दिल्ली के सफदरगंज स्टेशन से दिन के करीब 2:30 खुली। रामायण एक्सप्रेस ट्रेन शनिवार की सुबह करीब 9 बजे सीतामढ़ी स्टेशन पर करीब 800 श्रद्धालु यात्रियों को लेकर पहुंची। स्टेशन परिसर पहुंचे प्रयटकों ने श्री राम और माँ जानकी की उद्घोष करते हुए स्टेशन से माँ जानकी की जन्मभूमि पुनौरा धाम पहुंचे। अयोध्या से आये पर्यटकों को काफी सुखद अनुभव की अनुभूति का अहसास हुआ। तो वहीं माँ जानकी की जन्मभूमि पुनौरा धाम पहुंचे पर्यटकों को यहाँ जलवायु के साथ माँ जानकी की उर्विजा कुंड के डुबकी लगाने के बाद काफी खुश दिखे। 

पहुंचे पर्यटकों ने बताया की माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी आने पर उन्हें काफी ख़ुशी हो रही है। यहाँ आनद ही आनद है। पर्यटको ने बताया की यहाँ माँ जानकी की जन्मभूमि में माँ जानकी की दर्शन के बाद पड़ोसी देश नेपाल के जनकपुर धाम ( माँ जानकी की पिता की नगरी) जायेंगे। करीब 19 घंटे के विश्राम के बाद सीतामढ़ी स्टेशन से रामायण एक्सप्रेस ट्रेन खुलेगी जो रक्सौल होते हुए पुनः अयोध्या जाएगी। वही दूसरी और इतनी बड़ी संख्या में पहुंचे यात्रियों की सुरक्षा को लेकर जिलाप्रशासन की ओर कोई व्यवस्था नहीं दिखी। यह एक विचारणीय मुद्दा है। 

Find Us on Facebook

Trending News