बिहार के अंचलाधिकारियों की रैंकिंग जारी,पंडौल अंचल को मिला पहला स्थान,जानें सभी CO का परफॉरमेंस

बिहार के अंचलाधिकारियों की रैंकिंग जारी,पंडौल अंचल को मिला पहला स्थान,जानें सभी CO का परफॉरमेंस

पटना... बिहार सरकार जमीन संबंधी मामलों के त्वरित निष्पादन को लेकर कई तरह का फंडा अमल में ला रही है। सरकार की कोशिश है कि जमीन संबंधी विवादों का तय समय में निपटारा हो। इसके लिए राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने अब तक कई प्रयोग किए हैं। राजस्व विभाग अंचल अमीन से लेकर राजस्व एडीएम तक के कार्यों की समीक्षा कर रहा है। अधिकारियों के काम के आधार पर रैंकिंग तय की जा रही है, फिसड्डी रहने वाले अधिकारियों को चेतावनी भी दी जा रही है और कार्यप्रणाली में सुधार को कहा जा रहा है । बावजूद इसके बड़ी संख्या में ऐसे अंचलाधिकारी और एडीएम हैं जिनका परफॉर्मेंस काफी खराब है। 

पंडौल अंचल का मिला पहला रैंक


राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने एडीएम के बाद अब अंचलाधिकारियों का परफॉरमेंस जारी किया है। विभाग की तरफ से जारी की गई सूची में मधुबनी के पंडौल अंचल बिहार में पहले नंबर पर आया है.इस अँचल ने 99 फीसदी से अधिक नंहर लाये हैं. उसके बाद सीतामढ़ी का मेजरगंज दूसरे नंबर पर, गोपालगंज का थावे अंचल तीसरे नंबर पर, कटिहार का बलरामपुर अंचल चौथे नंबर पर और दरभंगा का अलीनगर अंचल पांचवें नंबर आया है.

मधेपुरा का चौसा अंचल का नंबर सबसे नीचे

सबसे खराब परफॉर्मेंस मधेपुरा के चौसा अंचल का रहा है जो 534 वें नंबर पर है यानी कि सबसे निचले पायदान पर है. नीचे से दूसरा स्थान दरभंगा का कुशेश्वर स्थान पूर्वी को मिला है, नीचे से तीसरा स्थान रोहतास के चेनारी, नीचे से चौथा स्थान बांका के कटोरिया और नीचे से पांचवा स्थान भागलपुर के कहलगांव अंचल को मिला है.


Find Us on Facebook

Trending News