छठे चरण का ‘रण’: लोकतंत्र में मतदान का महत्व जानते हैं बुजुर्ग, युवाओं से अधिक दिख रहा उत्साह, स्वच्छ छवि के प्रत्याशी है पहली पसंद

छठे चरण का ‘रण’: लोकतंत्र में मतदान का महत्व जानते हैं बुजुर्ग, युवाओं से अधिक दिख रहा उत्साह, स्वच्छ छवि के प्रत्याशी है पहली पसंद

KATIHAR/BETTIAH: लोकतंत्र का महापर्व यानी की चुनाव। देश दीपोत्सव की छठा में खोया है, तो वहीं बिहार में छठे चरण का पंचायत चुनाव का मतदान चल रहा है। लोकतंत्र की नींव देश की जनता है और उनका मताधिकार और जनादेश ही सर्वोपरि है। फिलहाल बात करेंगे कटिहार और बेतिया की, जहां शांतिपूर्ण ढंग से मतदान जारी है।

लोकतंत्र में विकास के लिए मतदान बेहद जरूरी है और बेहतर विकास के लिए हर एक वोट कीमती है। इसी को लेकर कटिहार के बरारी प्रखंड में सुबह सवेरे ही अपने वोट के जागरूकता को लेकर लोक सजग दिख रहे हैं। एक तरफ जहां युवाओं के बीच किसी भी तरह का उत्साह और जोश नहीं दिख रहा है, वहीं बुजुर्ग मताधिकार के प्रयोग को लेकर सजग और उत्साहित हैं। लगभग 100 साल के हनीफा खातून और 60 साल से अधिक सुंदरी खातून विकास के मुद्दे पर मतदान करने आए हैं। उम्र का पड़ाव भले ही आखिरी हो, मगर मतदान को लेकर सजगता देखकर कर्मी भी प्रभावित हुए बिना रह नहीं पाए।

वहीं दूसरी तरफ पश्चिम चम्पारण के लौरिया और रामनगर प्रखंड में सुबह सात बजे से त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए शुरू हुआ मतदान जारी है। मतदान करने आये एक दिव्यागं मणिभूषण कुमार ने बताया की हम अपना मतदान एक साफ स्वच्छ छवि के प्रत्याशी को देंगे जो हमारे पंचायत, हमारे गली का विकास कर सके। पिछले रिकॉर्ड को देखा जाए तो जनता ने धनबल, बाहुबल से ज्यादा स्वच्छ और ईमानदार छवि के प्रत्याशियों को तरजीह दी है।


Find Us on Facebook

Trending News