खनन मंत्री के PS के आवास में ही मिली 'रत्ना': बर्खास्त CDPO पर धन की वर्षा करता था मृत्युंजय, पॉर्न CD-अश्लील साहित्य भी मिला

खनन मंत्री के PS के आवास में ही मिली 'रत्ना': बर्खास्त CDPO पर धन की वर्षा करता था मृत्युंजय, पॉर्न CD-अश्लील साहित्य भी मिला

PATNA: बिहार के खनन मंत्री जनक राम के सरकारी आप्त सचिव मृत्युंजय कुमार के ठिकानों पर शुक्रवार को विशेष निगरानी इकाई ने छापेमारी की। एसवीयू ने अधिकारी के खिलाफ एक करोड़ 73 लाख ₹4922 आय से अधिक संपत्ति का केस दर्ज किया है। केस दर्ज करने के बाद शुक्रवार सुबह ही मंत्री के सरकारी आप्त सचिव, भाई और महिला मित्र के ठिकानों पर छापेमारी की. पटना में जब आरोपी अधिकारी मृत्युंजय कुमार के आवास की तलाशी लेने एसवीयू की टीम पहुंची तो भौंचक्क रह गई। महिला अभियुक्त रत्ना चटर्जी भी उनके आवास में ही मिली.

अधिकारी के पत्नी की मृत्यु,रत्ना ही मृत्युंजय के साथ मिली

विशेष निगरानी इकाई की तरफ से जो जानकारी दी गई है उसमें अधिकारी मृत्युंजय कुमार की पत्नी आरती का 2013 में ही मृत्यु हो गई है. आज की तलाशी में अभियुक्त रत्ना चटर्जी उनके पटना निवास में नाजायज रूप से रहते पाई गई। जांच में रत्ना चटर्जी के कटिहार आवास 30 लाख रुपए नगद मिले. इन अभियुक्तों के खाते से मोटी रकम आदान प्रदान की गई है. मनी लॉन्ड्रिंग भी किया गया है।

पॉर्न सीडी एवं अश्लील साहित्य बरामद

एसवीयू ने बताया है कि रत्ना चटर्जी सीडीपीओ थी, लेकिन 2011 में रिश्वत लेते गिरफ्तार हुई उसके बाद सरकार ने बर्खास्त कर दिया था. अधिकारी मृत्युंजय कुमार ही महिला मित्र का घर बनवा रहे जिनका सारा खर्च वे खुद उठा रहे हैं. रत्ना चटर्जी के नाम एक फ्लैट पावर हाउस रोड सिलीगुड़ी में है. जिसको खरीदने में भी मृत्युंजय कुमार ने अवैध कमाई से मोटी राशि भुगतान किया है . सिलीगुड़ी में फ्लैट की कीमत 35 लाख है। कटिहार से एक प्लॉट तीन लाख का है। 30 सोने का बिस्कुट तथा पॉर्न सीडी एवं अश्लील साहित्य बड़ी मात्रा में बरामद हुआ है. रत्ना चटर्जी के कटिहार आवास से तलाशी में ₹45 लाख के जेवरात बरामद हुए हैं. तीन एलआईसी की पॉलिसी मिली है जिसका प्रत्येक का मासिक प्रीमियम ₹40 हजार है. कई बैंक पासबुक भी बरामद किए गए हैं. विशेष निगरानी इकाई ने बताया है कि मृत्युंजय कुमार वर्तमान में खनन मंत्री जनक राम के सरकारी आप्त सचिव हैं. पूर्व में  वे कटिहार जिला के कई प्रखंडों में बीडीओ रह चुके हैं. इनकी पूर्व पदस्थापना पटना आपदा प्रबंधन एडीएम के रूप में भी रहा है.

Find Us on Facebook

Trending News