CM नीतीश के जनता दरबार में अचानक पहुंचे RCP सिंह, मुख्यमंत्री बोले- आरसीपी सिंह आये हैं....एक कुर्सी लगा दो

CM नीतीश के जनता दरबार में अचानक पहुंचे RCP सिंह, मुख्यमंत्री बोले- आरसीपी सिंह आये हैं....एक कुर्सी लगा दो

PATNA: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में सामान्य प्रशासन विभाग, गृह विभाग, राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग, मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग, निगरानी विभाग, खान एवं भूतत्व विभाग के मामलों पर सुनवाई की गई। अधिकांश मामले गृह,पुलिस व भूमि से संबंधित केस आये। जनता दरबार के अंतिम समय में केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह पहुंच गये। आरसीपी सिंह के पहुंचने की जानकारी मुख्यमंत्री को लगी। इसके बाद सीएम नीतीश ने तुरंत कहा कि आरसीपी सिंह आ रहे हैं। यहां एक कुर्सी लगा दो। 

दरबार में पहुंचे आरसीपी सिंह 

मुख्यमंत्री के आदेश के बाद फौरन जनता दरबार में सीएम के बगल में एक कुर्सी लगाई गई। केंद्रीय मंत्री आरसीपी ने सीएम नीतीश को अभिवादन कर कुर्सी पर बैठे और कहा कि बहुत देर से जनता दरबार चल रहा। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हां अब तक खत्म होने वाला है। 

सीएम के गोतिया-भाई की शिकायत

नालंदा से आये एक शख्स ने सीएम नीतीश से कहा कि आपके गांव कल्याण बिगहा के गोतिया-भाई आपके नाम का दुरूपयोग कर रहे। आपके नाम को भूनाकर जमीन का अवैध कब्जा कर रहे हैं। आप इस पर संज्ञान लीजिए। फरियादी की शिकायत पर मुख्यमंत्री ने बहुत कुछ नहीं बोला और अधिकारियों के पास भेज दिया। 

कहां दायें-बाएं घूमते हैं

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद अपनी सीट पर बैठे नहीं थे। इस दौरान ही सीएम नीतीश ने उनके टेबल पर लगे फोन कर फोन कर दिया। उन्होंने फोन उठाने में देर कर दी। इस दौरान सीएम को क्षण भर के लिए इंतजार करना पड़ा। फोन उठाते ही सीएम नीतीश ने अपर मुख्य सचिव गृह को कहा-दायें-बायें कहां घूमते रहते हैं ? इधर आइए.....फिर वे भागे-भागे मुख्यमंत्री के पासे पहुंचे। सीएम ने कहा कि इस पीड़ित महिला की शिकायत को देखिए और एक्शन लीजिए। 

पिता नक्सली बेटा को नौकरी से निकाला 

एक युवक ने सीएम नीतीश से कहा कि हुजूर हमारा क्या दोष है ? अगर हमारे पिता नक्सली हैं तो हम दोनों भाईयों को प्राईवेट नौकरी से क्यों निकाल दिया गया...कंपनी ने बताया कि आईबी और पुलिस की रिपोर्ट पर आपको नौकरी से निकाला जा रहा है। आख़िर हमारा क्या कसूर। हमारे पिता नक्सली हैं तो उसकी सजा उन्हें मिले। नौकरी से निकाले जाने के बाद हमारी मां डिप्रेशन में चली गई है। यह शिकायत सुनकर सीएम नीतीश चौंक गये। उन्होंने कहा कि यह बात तो सही कि पिता की सजा पुत्र को क्यों...इसके बाद तुरंत अधिकारियों को फोन लगाकर कहा कि इस मामले को देखिए। शिकायतकर्ता की पूरी बात सुनें और आगे की कार्रवाई करें। आख़िर इसे नौकरी से क्यों निकाला गया। 

जेल में हत्या पर चौंके सीएम नीतीश 

जेल में हत्या की बात सुन सीएम नीतीश चौंक गये और कहा कि जेल में हत्या कर दिया? फिर से सीएम नीतीश ने डीजीपी को लगाया और कहा कि ये वैशाली से आये हैं। जेल में हत्या हो गई और इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई। तुरंत इस मामले को देखिए। वहीं हाजीपुर से आये एक दूसरे व्यक्ति ने मुख्यमंत्री से कहा कि हाजीपुर नगर थाने की पुलिस कब्जा कराने का ठेका लेती है। नगर थाना की पुलिस एसपी की बात को भी नहीं सुनती। शिकायत सुन मुख्यमंत्री ने पीड़ित व्यक्ति को एडीजी के पास भेज दिया। 

हाजिर हुए ADG 

वैशाली के एक शख्स ने सीएम नीतीश से कहा कि हमारी जमीन को भू-माफियाओं ने कब्जा कर लिया। हमने तीन-तीन बार थाना में आवेदन दिया लेकिन पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया। उल्टे पुलिस ने हमारे बागीचा को भूमाफियाओं से मिलकर कटवा दिया। यह शिकायत सुनकर मुख्यमंत्री ने तुरंत ADG मुख्यालय को फोन लगाने को कहा। एडीजी ने फोन नहीं उठाया। इसके बाद सीएम नीतीश कहा कि वहां बैठे हैं बुलाओ उनको । सीएम के आदेश पर एडीजी को बुलाया गया। एडीजी के पहुंचते ही मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले को देखिए। सीएम नीतीश ने कहा कि फोन क्यों नहीं उठा रहे थे। तब एडीजी ने कहा कि सर...होम सेक्रेट्री के साथ बैठे हुए थे। 

मुख्यमंत्री ने डीजीपी को लगाया फोन 

धमकी देने वाला कह रहा कि पिता की लाश तो मिल भी गया तुम्हें मारेंगे तो लाश भी नहीं मिलेगा। पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करेगी।यह शिकायत सुन सीएम नीतीश ने तुरंत डीजीपी को फोन लगाया। मुख्यमंत्री     ने डीजीपी से कहा कि युवक के पिता की हत्या हुई है लेकिन अपराधी अभी तक गिरफ्तार नहीं हुए हैं। फिर से धमकी दे रहा है कार्रवाई करिए। 

जान की रक्षा करिए हुजूर

अररिया के फारबिसगंज का एक नौजवान ने सीएम नीतीश से गुहार लगाई। शख्स ने सीएम नीतीश से कहा कि वे लोग सरकारी योजनाओं में भ्रष्टाचार को उजागर किया है। गड़बड़ी उजागर करने के बाद स्थानीय मुखिया ने एक महादलित महिला को आगे कर झूठा केस करा दिया। हमारी रक्षा करिए हुजूर....वे लोग जान के दुश्मन बने हैं। इसके बाद मुख्यमंत्री ने पीड़ित शख्स को गृह विभाग के पास भेज दिया।

Find Us on Facebook

Trending News