बिहार में निजी आईटीआई संस्थानों की मान्यता होगी रद्द, जानिए क्या वजह है..

बिहार में निजी आईटीआई संस्थानों की मान्यता होगी रद्द, जानिए क्या वजह है..

PATNA : बिहार में खुले निजी आईटीआई संस्थानों में से कई की मान्यता रद्द हो सकती है आईटीआई संस्थानों की मान्यता रद्द करने के लिए श्रम संसाधन विभाग ने केंद्र सरकार से अनुशंसा करने का निर्णय लिया है।

इस संबंध में श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिन्हा ने बताया की निजी आईटीआई संस्थानों के द्वारा ली गई परीक्षा की समीक्षा के बाद यह निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया की करीब 61 निजी आईटीआई संस्थान सरकार के द्वारा परीक्षा के लिए तय मापदंड पर खरा नहीं उतर पाए हैं इसलिए इन सबों की मान्यता रद्द करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी इसके लिए केंद्र सरकार से अनुशंसा किया जाएगा।

श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिन्हा ने बताया कि 23 सरकारी और 10 और 7 प्राइवेट आईटीआई में 99 हजार 283 नियमित छात्र तो पिछले साल फेल कर दिए गए 50 हजार छात्रों ने आईटीआई की परीक्षा दी है ।

परीक्षा से संबंधित मापदंड तय करते हुए संस्थानों को कहा गया था कि सभी परीक्षा केंद्रों को प्रैक्टिकल के लिए केंद्र बनाना जरूरी होगा। लेकिन बिहार के 61 निजी आईटीआई संस्थान ऐसा नहीं कर पाए। इतना ही नहीं इन 61 में 11 तो ऐसे निकले जो जिनका पता ही गलत था।

श्रम मंत्री ने बताया की कदाचार मुक्त परीक्षा के लिए हर 155 आईटीआई पर एक जांच करने वाली टीम बनाई गई थी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा श्रम संसाधन विभाग के कुछ अधिकारियों को जिन्हें केंद्र अधीक्षक बनाया गया था। उन्होंने भी लापरवाही बरती है रिपोर्ट आने पर उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी साथी गलत ढंग से और नियमों के खिलाफ चलने वाले निजी आईटीआई संस्थानों को संरक्षण देने वाले केंद्र अधीक्षकों की भी पहचान की जा रही है। रिपोर्ट आते ही उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Find Us on Facebook

Trending News