1.2 लाख शिक्षकों का नियोजन अब पंचायत चुनाव बाद, दो साल से पेंडिंग है नियुक्ति की प्रक्रिया

1.2 लाख शिक्षकों का नियोजन अब पंचायत चुनाव बाद, दो साल से पेंडिंग है नियुक्ति की प्रक्रिया

शिक्षक नेताओं ने लगाया आरोप सरकार की मंशा ही शिक्षक नियुक्त करने की नहीं

PATNA : बिहार में चल रहे 94 हजार प्रारंभिक शिक्षकों के नियोजन पर एकबार फिर ब्रेक लगा है। पंचायत चुनाव के कारण शिक्षा विभाग ने नियोजन की प्रक्रिया स्थगित की है। बिहार के प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षकों की छठे चरण की नियोजन हेतु कारण 38 हजार शिक्षकों का चयन किया जा चुका है जिनके प्रमाण पत्रों की जांच अंतिम चरण में है। शेष 1100 नियोजन इकाइयों में विभिन्न कारणों से शिक्षकों का नियोजन नही हो पाया था।


अभ्यर्थियों का आरोप सरकार की मंशा साफ नहीं

बीएड उतीर्ण शिक्षक संघर्ष समिति के प्रदेश अध्यक्ष दीपांकर ने बताया कि सितंबर 2019 की बहाली दो वर्षों के बाद भी पूरी नही होना सरकार की नाकामी को उजागर करती है। बिहार के नौनिहालों की शिक्षा के प्रति सरकार गंभीर नही है इसी कारण शिक्षकों की बहाली नही करायी जा रही है। 

उन्होंने आरोप लगाया कि शिक्षा विभाग  जानबूझकर  शिक्षक नियोजन को टाल रही है।जिससे अभ्यर्थियों में रोष है। दीपांकर ने चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार शिक्षक अभ्यर्थियो की जल्द जॉइनिंग विद्यालयों में करवाये अन्यथा शिक्षक अभ्यर्थी सडक़ पर आंदोलन को मजबूर हो जाएंगे।

बता दें कि बिहार में पंचायत चुनाव लड़ रहे हैं, जिसके कारण सभी ग्रामीण इलाकों में आचार संहिता लागू है। जिसके कारण लोक हित से जुड़े किसी भी नए कार्य पर रोक लगी हुई है। चूंकि शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया में पंचायतों की बड़ी भूमिका होती है, ऐसे में चुनाव तक इसे टालने का फैसला लिया गया है।

Find Us on Facebook

Trending News