पति के साथ औरंगाबाद पहुंची रितु जायसवाल, बीएड कॉलेज की व्यवस्था देख कर हो गई मोहित, कहा- बिहार में कभी नहीं देखा ऐसा

पति के साथ औरंगाबाद पहुंची रितु जायसवाल, बीएड कॉलेज की व्यवस्था देख कर हो गई मोहित, कहा- बिहार में कभी नहीं देखा ऐसा

AURANGABAD : औरंगाबाद के दाऊदनगर में स्थित भगवान प्रसाद शिवनाथ प्रसाद  बीएड कॉलेज नया सत्र का सुभारंभ को लेकर विद्यार्थियों को मनोबल को अफजाई करने के लिए बीएड कॉलेज के संचालक प्रकाश चंद्रा के द्वारा एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप पहुंचे पूर्व आईएस अरुण कुमार तथा उनके पत्नी ऋतु जयसवाल ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर बच्चो की उज्वल भविष्य का कामना किया है और अपने संबोधन के दौरान पूर्व आइएस अरुण कुमार ने छात्र-छात्राओं से कहा कि सिर्फ पढ़ाई पर ही नहीं बल्कि लिखने की आदत डालें. पढ़ाई के साथ-साथ लिखना भी जरूरी है .अगर आप नहीं लिखेंगे तो नहीं सीखेंगे .इसलिए लिखना जरूरी है.

 उन्होंने कहा कि बिहार के लगभग डेढ़ लाख विद्यार्थी सुनहरे भविष्य का सपना लेकर दिल्ली में तैयारी कर रहे हैं. इससे आज लगभग 12 हजार रुपए प्रति विद्यार्थी प्रतिमाह यानी एक भारी-भरकम राशि बिहार से दिल्ली चली जा रही है. यदि विद्यार्थियों को बिहार में भी यही सुविधा मिले तो फिर यहां के विद्यार्थियों को दिल्ली जाने की जरूरत क्यों पड़ेगी. बिहार की अर्थव्यवस्था सुधरेगी. उन्होंने कहा कि कोचिंग संस्थान अब सिर्फ पैसे कमाने का साधन बनकर रह गया है. उन्हों ने बताया की सबसे अच्छा कोचिंग स्कूल है, जहां छठी से दसवीं तक कि पढ़ाई होती है यदि बच्चे सही तरीके से पढ़ाई कर लें तो आगे चलकर विद्यार्थियों को किसी प्रकार की तैयारी करने में किसी प्रकार की कोई कठिनाई नहीं होगी. उनके सहयोगी एवं एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी छोड़कर बिहार आकर पटना के गंगा घाट पर ही विद्यार्थियों को निशुल्क शिक्षा प्रदान कर रहे देवेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि मन को एकाग्र चित्त रखें. आप स्वयं तय करें कि आपका जीवन कैसे चलेगा .अपने जीवन का एक विजन बनाएं .उसके बाद उसे प्राप्त करने का तरीका ढूंढें.

वही सिंहवाहनी पंचायत के पूर्व मुखिया रितु जायसवाल ने अपना अनुभव साझा करते हुए यह बताया कि दिल्ली की सुख सुविधा को त्याग कर किस प्रकार उन्होंने सिंहवाहिनी पंचायत से मुखिया पद का चुनाव लड़ा. मुखिया बनने के बाद उन्हें किन- किन चुनौतियों से गुजारना पड़ा .उन्होंने कहा कि व्यवस्था में जो गैप है ,उसे भरना जरूरी है. जब हम बेहतर करने आते हैं तो कई प्रकार की चुनौतियां सामने आती हैं. किसी पर उंगली उठाने से पहले स्वयं की ओर जरूर देखना चाहिए. एक सही राजनीतिज्ञ की ही राजनीति को ठीक कर सकता है .जब एक ईमानदार राजनीति की की आवाज सदन में गूंजता है तो राज्य व देश में बदलाव होता है. राजनीति में सही लोगों को आगे लाना होगा .उन्हें गर्व है कि वे राजनीति कर रही हैं। 


भगवान प्रसाद शिवनाथ प्रसाद बीएड कॉलेज के सचिव डॉ प्रकाश चंद्रा ने वीआरएस लेने वाले पूर्व आईएएस अधिकारी अरुण कुमार एवं उनकी पत्नी रितु जायसवाल की प्रशंसा करते हुए कहा कि तीनों मुख्य अतिथि पूरे मनोयोग से बिहार की सेवा कर रहे हैं .उन्हों ने यह भी कहा की हमारे जिला के कोई भी विद्यार्थी अगर निशुल्क अरुण सर से शिक्षा लेना चाहे तो उनके लिए अरुण सर के गंगा घाट संस्थान में स्वागत है और ऐसे विद्यार्थी को मेरे तरफ से निशुल्क पुस्तक की व्यवस्था की जाएगी । वहीं रितु जयसवाल ने तो अपने संबोधन के दौरान यह बताया कि औरंगाबाद नहीं बल्कि पूरे बिहार में यही एक b.ed कॉलेज को मैं देखा जहां बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं ज्यादातर बीएड कॉलेज मैं पढ़ाई नहीं होती केवल b.ed का रिजल्ट ही दिया जाता है । उन्होंने इसको लेकर के प्रकाश चंद्रा को बिहार का सोनू सूद  बताया और कहा कि एक सोनू सूद मुंबई में है दूसरा सोनू सूद जिसे हम बिहार का सोनू सूद कहते हैं यह औरंगाबाद के दाउदनगर में हैं वह है प्रकाश चंद्रा उन्होंने अपने संबोधन में बच्चियों को अफजाई करते हुए कहां है बड़ी सौभाग्य की बात है कि आप लोगों को इस तरह का व्यवस्था दिया गया है जिसका आप लोग भरपूर उपयोग करें और अपने राज्य अपने जिला तथा अपने देश का भविष्य रौशन करें

वही जब पत्रकारों के द्वारा पूर्व आईएस अरुण कुमार से यह पूछा गया कि अपने आईएस की नौकरी से इस्तीफा देकर आज बिहार में शिक्षा को लेकर अलख जगाते चल रहे है क्या आप इसमें सफल हो रहे है ,तो उन्हों ने कहा की , यह बिहार की धरती है जहा ज्ञान प्राप्त होने के बाद लोग घर की ओर लौटते है हमे भी ऐसा ही महसूस हुआ जिसको लेकर मैं अपनी नौकरी को परित्याग कर अब अपने राज्य के बच्चों केभविष्य उज्जवल करने की दिशा में अग्रसर हूं और आने वाला दिन एक बार फिर शिक्षा के दुनिया में पूरे विश्व को बिहार संदेश देगा पूर्व में भी दिया है और आने वाले समय में भी बिहार सम्पूर्ण विश्व का नेतृत्व करेगा। और उन्होंने कहां कि प्रकाश चंद्र शिक्षा की दिशा में एक चिराग जलाने का जो  कार्य किया है वह सराहनीय है जिसको लेकर  प्रकाश चंद्रा को साधुवाद कहां है।

वही इस कार्यक्रम में कई गणमान्य लोगों ने भी भाग लिया और उनके वक्तव्य को सुना पूर्व जिप उपाध्यक्ष संजय सिंह सोम, पूर्व मुखिया राजकुमार शर्मा, पूर्व प्रमुख छोटेलाल प्रसाद, समाजसेवी मुकेश कुमार उर्फ लाल, पूर्व मुखिया रामजीवन पासवान ,जदयू नेता ओम प्रकाश पासवान, चिंटू मिश्रा,झोंकी यादव समेत अन्य लोग मौजूद रहे

Find Us on Facebook

Trending News