तो क्या टूट जाएगा महागठबंधन ? कांग्रेस कभी भी ले सकती है बड़ा फैसला, 40 सीटों पर लड़ने की कवायद शुरू

तो क्या टूट जाएगा महागठबंधन ? कांग्रेस कभी भी ले सकती है बड़ा फैसला, 40 सीटों पर लड़ने की कवायद शुरू

न्यूज4नेशन डेस्क- महागठबंधन में कांग्रेस और राजद के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. अंदरखाने से जो खबरें आ रही हैं उसके मुताबिक सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस खुद को असहज महसूस कर रही है. खबरों के मुताबिक दिल्ली दरबार में बुधवार को केसी वेणुगोपाल के आवास पर हुई बिहार कांग्रेस की स्‍क्रीनिंग कमेटी की बैठक में कांग्रेस नेताओं ने महागठबंधन में अपनी स्थिति को लेकर भी चर्चा की है. ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस और राजद के बीच बढ़ते तनातनी को देखते हुए कांग्रेस कोई बड़ा फैसला ले सकती है.

बढ़ता जा रहा राजद-कांग्रेस के बीच रार

महागठबंधन के घटक दलों के बीच सीटों के बंटवारा के बावजदू कई सीटों पर अभी भी रार बरकरार है. कांग्रेस के कोटे की सुपौल सीट पर पप्‍पू यादव की पत्‍नी रंजीत रंजन को प्रत्‍याशी बनाए जाने पर राजद को आपत्ति है. राजद ने पप्पू यादव की पत्‍नी रंजीता रंजन के खिलाफ सुपौल सीट पर उम्‍मीदवार देने की धमकी दी है. रंजीत रंजन सुपौल से कांग्रेस की उम्‍मीदवार हैं. उधर, कांग्रेस कीर्ति आजाद के लिए दरभंगा सीट चाहती है, जबकि राजद इसे देना नहीं चाहता.बताया जा रहा है कि इस विवाद के मद्देजनर कीर्ति आजाद ने वेणुगोपाल से मुलाकत की है. उधर, रंजीत रंजन ने भी अपनी नाराजगी जाहिर कर दी है. 

कांग्रेस के अंदर भी उठने लगे भीतरघात के सुर

सीट शेयरिंग में किचकिच के बीच कांग्रेस के भीतर भी कलह तेज है। औरंगाबाद सीट से निखिल कुमार को टिकट नहीं दिए जाने से नाराज कार्यकर्ता हाल ही में प्रदेश कार्यालय में अपने ही नेताओं के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे बुलंद कर चुक हैं. अब प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने रालोसपा कोटे की काराकाट  सीट से अपनी दावेदारी ठोक दी है. उन्‍होंने कहा है कि पार्टी को औरंगाबाद सीट नहीं मिलती है तो काराकाट मिलनी चाहिए. अगर ऐसा नहीं होता है इसका बड़ा परिणाम होगा.

गठबंधन तोड़ 40 सीट पर लड़ने की तैयारी

खबरों की माने तो कांग्रेस स्‍क्रीनिंग कमिटी की बैठक में बिहार में सीटों को ले उठे विवाद पर चर्चा.हुई। बैठक में कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, प्रदेश अध्‍यक्ष डॉ. मदन मोहन झा, सदानंद सिंह व अखिलेश सिंह सहित बिहार के कई बड़े नेता शामिल हुए. बताया जाता है कि बिहार के एक नेता ने विवाद को देखते हुए गठबंधन तोड़ सभी 40 सीटों पर चुनाव लड़ने की सलाह दी. 

Find Us on Facebook

Trending News