तेजस्वी के सामने क्या फिर झुकेगी कांग्रेस, RJD ने सहयोगियों के लिए बना लिया सीटों के लिए ये फॉर्मूला

तेजस्वी के सामने क्या फिर झुकेगी कांग्रेस, RJD ने सहयोगियों के लिए बना लिया सीटों के लिए ये फॉर्मूला

PATNA : बिहार विधानसभा चुनाव की सरगर्मी के बीच महागठबंधन में सीट शेयरिंग का पेंच फंसता जा रहा है. महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर अंदर ही अंदर खींचतान तेज हो गई है. सीट बंटवारे के मसले को कमांड कर रही राजद ने अब कांग्रेस को समझौते के लिए  तैयार रहने को कह दिया है.

कांग्रेस को अपने डिमांड पर करना पड़ सकता है समझौता
राजद ने कांग्रेस से साफ कहा है कि सहयोगियों की संख्या बढ़ने पर सीटों को लेकर समझौता करना होगा. इस हाल में कांग्रेस की 50 से ज्यादा सीटों पर लड़ने की चाह पर पानी फिरता दिख रहा है. वहीं राजद भी त्याग करने को तैयार है. महागठबंधन के अंदर जो चर्चा है उसके मुताबिक रालोसपा और वामदलों ने 50-50 सीटों से ऊपर की डिमांड कर दी है. वहीं मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी ने 20 से ऊपर सीटों की चाहत दिखाई है.वहीं झारखंड के सीएम के सीएम ने भी राजद चीफ लालू यादव से 8 सीटों की मांग कर दी है. अगर सहयगियों की डिमांड पूरी कर दी जाए तो राजद और कांग्रेस को पिछले चुनाव उतने सीट भी नहीं मिल पाएगी. लिहाजा ऐसे में सहयोगियों की चाहत को तेजस्वी यादव को नजरअंदाज करना होगा या फिर उन्हें आश्वासन के बल पर साथ जोड़े रखना है.

महागठबंधन में इस फॉर्मूले पर हो रहा है काम
अंदरखाने से यह खबर आ रही है कि राजद और कांग्रेस ने सहयोगी दलों को सीट देने का फॉर्मूला तय कर लिया है. इस नए फॉर्मूले के मुताबिक रालोसपा को 18 से 20 सीट, लेफ्ट(तीनों दलों को मिलाकर) 20-22 सीट, वीआईपी  को 8 से 10 सीट और झामूमो को 3 से 5 सीट ही दी जा सकती है. इसके बाद कांग्रेस को 41 से 50 जबकि राजद 130 से 140 सीटों पर अपने उम्मीदवार को चुनावी रण में उतारेगा.जानकारों की माने तो महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर इस फॉर्मूले पर बातचीत को अमलीजामा पहनाने की कोशिश हो रही है. लेकिन राजनीति में एक कहावत है जो दिखता है वो होता नहीं है. 

Find Us on Facebook

Trending News