अमित शाह और नड्डा काट रहे नीतीश की कुर्सी, मोदी कह रहे गुडलक, राजद ने पोस्टर में दिखाई एनडीए की हकीकत

अमित शाह और नड्डा काट रहे नीतीश की कुर्सी, मोदी कह रहे गुडलक, राजद ने पोस्टर में दिखाई एनडीए की हकीकत

पटना। 'अरुणाचल प्रदेश तो झांकी था, इ कुर्सिया त अभी बाकी था, काटो जोर लगके'  

'वोट हल्का कुर्सी भारी, हल्का करो चलाके गाड़ी'

'हमको भी बिहार में आत्म निर्भर बनने दीजिए'

यह वह पंक्तियां है, जो साल के अंतिम दिन बिहार के सियासी हलचल के बीच राजद द्वारा इस्तेमाल किया गया है। युवा राजद के  प्रदेश महासचिव ऋषि यादव ने राजद कार्यालय के पास एक पोस्टर लगाया है। इस पोस्टर में भाजपा के तमाम दिग्गजों के बीच नीतीश कुमार कुर्सी पर बैठे नजर आ रहे हैं। कार्टूनवाले इस पोस्टर के जरिए राजद ने नीतीश को सावधान करने की कोशिश की है कि अब भी समय है कि वह भाजपा की सच्चाई को पहचाने और एनडीए से अलग होकर राजद के साथ आएं। 

इस पोस्टर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हेल्प भी कह रहे हैं वही कुर्सी पर बैठे नीतीश कुमार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आदि से काटते नजर आ रहे हैं जेपी नड्डा लिखते हैं कि अरुणाचल प्रदेश तो झांकी था की कुर्सियां तो अभी बाकी था काटो जोर लगा कर वहीं दूसरी तरफ अमित शाह कुर्सी को आरी से काटते हुए लिखते हैं बहुत हल्का कुर्सी भारी हल्का करो चला करारी। मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री के बाई तरफ रविशंकर प्रसाद है जिन्होंने लिखा है हम लोगों को भी बिहार में आत्मनिर्भर बनने दीजिए सब दिन आप ही रहिएगा। वही सुशील कुमार मोदी बैग लेकर दिल्ली जा रहे हैं कंधे पर बैग लटकाए हुए हैं हम तो चले परदेस परदेसी हो गए कुर्सी के नीचे नित्यानंद राय और अमित शाह के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं जो गुड जॉब लिखकर अंगूठा दिखा रहे हैं। नित्यानंद राय कह रहे हैं ऐसा काटने की कुर्सी पर बैठने के लायक न रहे यह इस साल की सबसे तंज कसने वाली पोस्टर है।


राजद का तगड़ा हमला

 जिस तरह से राजद की तरफ से पोस्टर में एनडीए की सच्चाई को बताकर जदयू पर बड़ा हमला किया है। राजद ने साफ जाहिर कर दिया है कि भाजपा के नेता भले ही कह रहे हों कि बिहार में सब ठीक है, लेकिन उनकी असली हकीकत कुछ और है। पोस्टर में लिखी गई बातें ही भाजपा का असली चेहरा है। जिससे नीतीश अब घिरे हुए हैं। पार्टी प्रवक्ता  शक्ति यादव ने कहा कि राजद के पोस्टर में कुछ भी गलत नहीं है यह भाजपा की हकीकत है। यह अब नीतीश जी पर निर्भर करता है कि वह इसे किस रूप में लेते हैं। बिहार में जो हालात हैं, पोस्टर में वही बताया गया है।

मूर्खों की पार्टी से यही उम्मीद थी

वहीं जदयू प्रवक्ता डॉ अजय आलोक ने  पटना में राजद के पोस्टर पर पलटवार करते हुए कहा कि मूर्खों की पार्टी से और उम्मीद भी क्या की जा सकती है। उन्होंने कहा कि चेहरा काला होने पर आईने का दोष नहीं होता है। मूर्खो के मुर्खधिराज दिल्ली में हैं। पार्टी नेताओं को मेरी सलाह है कि वह भी अपने मूर्खाधिराज के साथ देने के लिए दिल्ली जाएं। बिहार में उनकी दाल नहीं गलनेवाली है। 

Find Us on Facebook

Trending News