राजद की चुनौती- आरोप नहीं हिम्मत है तो पीएफआई और एसडीएफआई को बैन करके दिखाए भाजपा

राजद की चुनौती- आरोप नहीं हिम्मत है तो पीएफआई और एसडीएफआई को बैन करके दिखाए भाजपा

पटना. एसएसपी पटना मानवजीत सिंह ढिल्लो द्वारा आरएसएस की तुलना कथित देशविरोधी संगठन पीएफआई से करने के बाद से भाजपा के तेवर तल्ख हैं. इसे लेकर बिहार में सत्तारूढ़ नीतीश सरकार के दोनों प्रमुख घटक दल भाजपा और जदयू भी आमने सामने हैं. इस बीच अब राष्ट्रीय जनता दल ने इसी मुद्दे पर एक बार फिर केंद्र की बीजेपी और बिहार की एनडीए सरकार पर हमला बोला है. 

राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि जिस तरह से बीजेपी के लोग पीएफआई और एसडीएफआई को लेकर हंगामा कर रहे हैं अगर उनको हिम्मत है तो इस संगठन पर बैन लगाकर दिखाएं. दरअसल पटना के फुलवारीशरीफ से आईबी की रिपोर्ट के आधार पर हुई छापेमारी में अतहर परवेज और ज्ल्लालुद्दीन की गिरफ्तारी हुई थी. दोनों पीएफआई से जुड़े बताए जाते हैं और इन पर भारत को वर्ष 2047 तक इस्लामिक राष्ट्र बनाने की साजिश रचने का आरोप है. 


इसी मुद्दे पर एसएसपी पटना ने संवाददाता सम्मेलन में कहा था जिस तरह से लाठी चलाने का प्रशिक्षण आरएसएस देता है अतहर भी पीएफआई के बैनर तले उसी तरह का प्रशिक्षण यहां दे रहा है. उनके इस बयान के बाद से बवाल मचा हुआ है. अब इसी को लेकर राजद ने भाजपा पर हमला बोला और कहा कि अगर उनको हिम्मत है तो इस संगठन पर बैन लगाकर दिखाएं. न कि अनावश्यक आरोप लगाए जाएं. उन्होंने कहा कि जिस तरह से इसे लेकर बीजेपी बिहार में हो हल्ला मचा रही है यह ठीक नहीं है. साथ ही अगर उनको नीतीश सरकार में रहने में दिक्कत है तो गठबंधन से अलग हो जाएं. 

साथ ही एक बार फिर उन्होंने राष्ट्रपति चुनाव में अंतरात्मा की आवाज पर सभी लोगों को वोट करने की अपील की. उन्होंने कहा कि पहले के चुनावों में भी अंतरात्मा की आवाज पर कई बार वोटिंग हुई है. इसलिए इस बार भी अंतरात्मा की आवाज पर एनडीए के विधायक अपने मन के उम्मीदवार को वोट करें. 


Find Us on Facebook

Trending News